ये है दुनिया की सबसे बड़ी सोने की मूर्ति, जिस पर चढ़ाया जाता है प्लास्टर, जानिए क्या है वजह

 
ये है दुनिया की सबसे बड़ी सोने की मूर्ति, जिस पर चढ़ाया जाता है प्लास्टर, जानिए क्या है वजह

ल़ाईफस्टाइल न्यूज डेस्क।। दुनियाभर में अजब गजब चीजों की कमी नहीं है. जहां एक से बड़ा एक अजूबा मिल जाएगा. आज हम आपको एक मूर्ति के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे दुनिया की सबसे बड़ी मूर्ति माना जाता है. इस मूर्ति की खास बात ये है कि इस पर लोग प्लास्टर चढ़ाते हैं. भगवान बुद्ध की ये मूर्ति थाईलैंड में हैं. बता दें कि चीन के दक्षिण-पश्चिमी सिचुआन प्रांत में भी भगवान बुद्ध की एक मूर्ति है जिसे बनाने में 90 साल से ज्यादा का समय लगा था. लेकिन थाईलैंड में मौजूद भगवान बुद्ध की मूर्ति दुनिया की सबसे बड़ी सोने की मूर्ति है.

भगवान बुद्ध की इस मूर्ति को 'द गोल्डन बुद्धा' कहा जाता है. यह मूर्ति थाईलैंड की राजधानी बैंकॉक के 'वाट ट्रेमिट' मंदिर में स्थित है. इस मूर्ति की लंबाई 9.8 फीट है और इसका वजन लगभग 5500 किलोग्राम है. बता दें कि वैसे तो यह प्रतिमा बिकाऊ नहीं है, लेकिन अगर सोने की कीमतों के हिसाब से इसका कीमत आंकी जाए तो ये 2000 करोड़ रुपये से ज्यादा बैठेगी. यह मूर्ति कई सालों तक दुनिया से छुपी रही थी. इसके ढूंढे जाने की कहानी भी बड़ी अजीबोगरीब है.

संबंधित कहानियां

ये है दुनिया की सबसे बड़ी सोने की मूर्ति, जिस पर चढ़ाया जाता है प्लास्टर, जानिए क्या है वजह
बताया जाता है कि साल 1954 तक लोगों को इसके बारे में पता नहीं था कि यह मूर्ति पूरी तरह से सोने की है, क्योंकि उस समय मूर्ति के ऊपर प्लास्टर चढ़ाया गया था. जब मूर्ति को रखने के लिए मंदिर में एक नया भवन बनाया गया और 1955 में इसका स्थानांतरण किया जा रहा था, तब गलती से मूर्ति जमीन पर गिर गई. जिससे उसका प्लास्टर उखड़ गया और उसकी हकीकत लोगों के सामने आ गई.

बाद में इस मूर्ति को रखने के लिए वाट ट्रेमिट मंदिर में एक बड़े से भवन निर्माण कराया गया और वहां भगवान बुद्ध की सोने की मूर्ति को स्थापित किया गया. कहा जाता है कि सोने की इस मूर्ति पर प्लास्टर इसलिए चढ़ाया गया था, ताकि इसे चोरी होने से बचाया जा सके. ऐसा माना जाता है कि 1767 में बर्मा के आक्रमणकारियों द्वारा अयुथ्या राज्य के विनाश से पहले मूर्ति पर प्लास्टर करने का काम पूरा हुआ होगा.

Post a Comment

From around the web