ये छिपकली निकालती है सांपों की तरह आवाज, जानिए इसके बारे में और भी हैरान करने वाली बातें

 
ये छिपकली निकालती है सांपों की तरह आवाज, जानिए इसके बारे में और भी हैरान करने वाली बातें

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। दुनिया में कई तरह के जानवर पाए जाते हैं। इसके अलावा यहां छिपकलियों की कई प्रजातियां हैं जो देखने में बेहद डरावनी हैं। कुछ दिनों पहले मध्य प्रदेश में छिपकली की एक दुर्लभ प्रजाति मिली थी। राज्य के बैतूल के एक अस्पताल में छिपकली मिली थी। यह छिपकली सांप की तरह फुफकारती है और बहुत प्यारी लगती है। अस्पताल में छिपकली को देखकर लोग दहशत में आ गए, जिसके बाद इसकी सूचना एक सांप पकड़ने वाले को दी गई, जिन्होंने उसे बचा लिया। यह दुर्लभ छिपकली इस क्षेत्र में पहली बार देखी गई थी।

कुछ दिनों पहले मध्य प्रदेश पावर जनरेटिंग कंपनी के अस्पताल में इस दुर्लभ छिपकली को देखा गया था। छिपकली को देखकर अस्पताल के कर्मचारी डर गए। अस्पताल प्रबंधन ने सरपामित्र को सूचित किया, जिसके बाद उन्होंने उसे बचाया। सरपामित्र आदिल खान ने इस बारे में काफी जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि यह छिपकली मध्य प्रदेश पावर जनरेटिंग कंपनी अस्पताल में मिली थी।

कर्मचारियों ने सांप के दोस्त आदिल खान को फोन पर सांप के फुफकारने की सूचना दी। बचाव के लिए दौड़े आदिल खान ने देखा कि दुर्लभ छिपकली अस्पताल परिसर में बैठी है और जोर-जोर से आवाज कर रही है।

छिपकली का नाम है तेंदुआ गेको

आदिल खान के अनुसार इस छिपकली को सतपुड़ा तेंदुआ गेको के नाम से जाना जाता है। सरपामित्र ने इस छिपकली को बचाया। यह छिपकली मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ में पाई जाती है। यह छिपकली मध्य भारत के जंगलों में पाई जाती है। रात में यह घूमता है और कीड़ों का शिकार करता है। यह छिपकली कीड़ों को खाती है।

सुंदर दिखता है

यह छिपकली देखने में बेहद खूबसूरत है। छिपकली को जब खतरा महसूस होता है तो वह तेज रफ्तार से दौड़ती है और सांप की तरह तेज आवाज करती है। यह छिपकली करीब 20 सेंटीमीटर तक बढ़ सकती है। इसमें कोई जहर नहीं होता है और यह इंसानों को नुकसान नहीं पहुंचाता है।

Post a Comment

From around the web