मंगल ग्रह पर घर बनाने के लिए भारतीय वैज्ञानिकों ने बनाई के लिए खास ईंट, सस्ती टेक्नोलॉजी से बनेंगे घर
 

 
भारतीय वैज्ञानिकों ने बनाई मंगल ग्रह के लिए खास ईंट, सस्ती टेक्नोलॉजी से बनेंगे घर

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। मंगल ग्रह पर मानव कालोनी स्थापित करने के लिए वैज्ञानिक लगातार प्रयास कर रहे हैं। इस दिशा में भारतीय वैज्ञानिकों ने एक ऐसी तकनीक की खोज की है जिससे मंगल की मिट्टी और मानव मूत्र को मिलाकर ईंटें बनाई जाएंगी। ऐसी ईंट न केवल टिकाऊ होगी, बल्कि मंगल की जलवायु के लिए भी उपयुक्त होगी।

शोधकर्ताओं द्वारा बनाई गई विशेष ईंटें मूत्र में पाए जाने वाले यूरिया के साथ अंतरिक्ष की गहरी धूल को मिला देंगी। निकल क्लोराइड या ग्वार गम भी बैक्टीरिया द्वारा जोड़ा जाएगा। इस मिश्रण से मजबूत ईंटें बनाई जाएंगी, जो मंगल ग्रह पर बनने वाले घरों के लिए उपयुक्त होंगी।

भारतीय वैज्ञानिकों के कारनामे

भारतीय वैज्ञानिकों ने बनाई मंगल ग्रह के लिए खास ईंट, सस्ती टेक्नोलॉजी से बनेंगे घर
इस विशेष ईंट को भारतीय विज्ञान संस्थान के शोधकर्ताओं ने विकसित किया है। अब वे इस बात की जांच कर रहे हैं कि कम गुरुत्वाकर्षण और मंगल की जलवायु इन ईंटों को कैसे प्रभावित करेगी। मानव मूत्र में मौजूद मंगल मिट्टी और यूरिया की मुख्य सामग्री ईंट होगी। इसके अलावा ऐसे बायोपॉलिमर बैक्टीरिया द्वारा तैयार किए जाएंगे, जो मिट्टी को सीमेंट की तरह एक साथ रखने में मदद करेंगे। डॉ. आलोक कुमार का कहना है कि जैविक रूप से निर्मित यह ईंट भविष्य में अन्य ग्रहों पर बसने की संभावना में उपयोगी साबित होगी।


अंतरिक्ष यात्रियों के खून और पसीने से ईंटों का इस्तेमाल
इससे पहले, मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने मंगल ग्रह पर एक उपनिवेश स्थापित करने के लिए अनूठी ईंटों के उपयोग का प्रस्ताव रखा था। इस ईंट को अंतरिक्ष यात्रियों के खून, पसीने और आंसुओं से बनाया जा सकता है। शोध सितंबर 2021 में मैटेरियल्स टुडे बायो जर्नल में प्रकाशित हुआ था। अध्ययन के अनुसार, एस्ट्रोक्रेट नामक एक ठोस पदार्थ बनाने के लिए अंतरिक्ष यात्रियों के रक्त और सिंथेटिक रेजोलिथ का उपयोग किया गया था। इसे मंगल और चंद्रमा की मिट्टी के लिए उपयुक्त बताया गया है। वास्तव में, मानव रक्त और सिंथेटिक रेजोलिथ का मिश्रण मानव रक्त में पाए जाने वाले प्रोटीन एल्ब्यूमिन द्वारा बहुत कठोर कंक्रीट बना सकता है। इसमें यूरिया मिलाने से यह 300 प्रतिशत अधिक गुणकारी हो जाता है।

Post a Comment

From around the web