लोगों की जान लेने वाले खतरनाक वायरस ने महिला को मौत के मुंह से निकाला, क्या है पुरा मामला

 
जिस खतरनाक वायरस ने ली लोगों की जान, उसी ने महिला को मौत के मुंह से निकाला

लाइफस्टाइल डेस्क, जयपुर।। इस समय पुरी दुनिया कोरोना वायरस के डर के साये में जी रही है।यह वायरस इतना खतरनाक है कि लोग इसके नाम से भी डर जाते है। इसका आंकडा दिन ब दिन बढता ही जाता है। साथ ही इसने कई परिवारों को उजाड दिया। लेकिन आज हम आपको बतायेंगे कि इस वायरस ने ही किसी की जिंदगी भी बचाई है। ब्रिटेन में एक महिला जिसकी ज़िंदगी कोरोना वायरस ने बचाई है। इस महिला को कोरोना के लक्षण महसूस हो रहे थे. तो उसने डॉक्टर को दिखाया तो पता चला कि वो कोरोना नहीं, बल्की एक जानलेवा बीमारी से जूझ रही है.

41 साल की जेम्मा फैलून के गले में खराश और पीठ दर्द के साथ यूरिन में खून आने की भी दिक्कत थी. अगर महिला को गले में खराश, थकान और पेट में दिक्कत जैसे कुछ कोरोना के कॉमन लक्षण नहीं महसूस होते, तो उसे अपनी बीमारी के बारे में पता भी नहीं चल पाता. वे जांच कराने के लिए डॉक्टर के पास पहुंचीं और उनके सामने एक डरावनी बीमारी का खुलासा हुआ. 

जेम्मा को जब ही पीठ दर्द और पेशाब में खून आने की भी समस्या आने लगी तो वे बुरी तरह घबरा गईं. हालांकि तब भी उन्होंने इसे लॉन्ग कोविड ही समझा. जेम्मा फैलून ब्रिटेन के Ellesmere Port की रहने वाली हैं. उन्हें काफी दिनों से गले में खराश महसूस हो रही थी. हालांकि उन्होंने इन लक्षणों को नज़रअंदाज़ किया और इसे सामान्य सर्दी-जुकाम मानती रहीं. असल बीमारी का पता तो उन्हें तब चला जब वे डॉक्टर के पास पहुंचीं तो रिपोर्ट में पता चला कि उन्हें थायरॉयड और किडनी का कैंसर है.

जिस खतरनाक वायरस ने ली लोगों की जान, उसी ने महिला को मौत के मुंह से निकाला

जेम्मा को थायरॉयड और किडनी कैंसर था, जिसका पता अगर वक्त पर नहीं चलता, तो उनकी जान जा सकती थी. जांच के बाद ही जेम्मा की थ्री स्टेप सर्जरी हुई. रोबोटिक ऑपरेशन के 10 दिन पहले और 10 दिन बाद तक उन्हें आइसोलेशन में रहना पड़ा. हालांकि उनकी जान वक्त पर जांच और इलाज मिल जाने की वजह से बच गई. जेम्मा के मुताबिक ‘ये बहुत ही अजीब है, लेकिन कोविड ने ही मेरी जान बचाई है. अगर में काम करती रही, छुट्टी न लेती और कोरोना के डर से टेस्ट भी नहीं कराती, तो इस बीमारी के बारे में पता ही नहीं चलता. 

Post a Comment

From around the web