क्या आर्कटिक में बना है एलियंस के UFO का चार्जिंग स्टेशन? रहस्यमयी इमारत की फोटो आई सामने

 
a

लाइफस्टाइल डेस्क, जयपुर।। एक लंबे समय से एलियन के अस्तित्व को लेकर चर्चा छिड़ी हुई है। जी हां विकसित देशों जैसे अमेरिका, ब्रिटेन आदि देशों में एलियंस को लेकर खूब चर्चाएं हो रही हैं। वहीं इसी बीच अब अमेरिका से कुछ वीडियो भी सामने आए हैं। जिसमें यूएफओ (UFO) जैसी चीज दिख रही है। बता दें कि कुछ मामलों में तो अमेरिकी रक्षा एजेंसी पेंटागन जांच भी कर रही है, लेकिन एलियंस का रहस्य वैसा का वैसा ही बना हुआ है। लेकिन अब एक यूट्यूबर ने आर्कटिक सागर में एक रहस्यमयी स्थान को देखने की बात कही है, जो यूएफओ (UFO) के चार्जिंग स्टेशन जैसा लगता है। तो आइए आज हम आपको बताते है इसी से जुड़ी कहानी, वह भी विस्तार से…

गौरतलब हो कि डेली स्टार (Dailystar) की एक रिपोर्ट के मुताबिक यूट्यूब ब्लॉगर Mr MBB333 के बहुत से दर्शक हैं। अब उन्होंने आर्कटिक में यूएफओ (UFO) बेस जैसी चीज देखी है। हालांकि उन्होंने साफतौर पर इसकी पुष्टि नहीं की है, और कहा है कि ये महज उनका अंदाजा ही है। यूट्यूबर के मुताबिक हाल ही में अमेरिकी नौसेना ने जो एलियंस के विमान का वीडियो जारी किया था, आर्कटिक की इस रहस्यमयी जगह को देखकर उसकी याद आती है।

बता दें कि Mr MBB333 ने वीडियो में बताया कि वो गूगल अर्थ का काफी इस्तेमाल करते हैं। उनके एक सब्सक्राइबर ने ही उन्हें आर्कटिक में दुर्घटनाग्रस्त विमान की जांच करने को कहा था, जो लैंडिंग स्ट्रिप से ज्यादा दूर नहीं था। जैसे ही उन्होंने नीचे स्क्रॉल किया, उन्हें एक इमारत का पता चला। यूट्यूबर के मुताबिक वहां पड़े पॉड्स ने उन्हें टिक-टैक यूएफओ (UFO) की याद दिला दी, जिसे कुछ दिनों पहले नौसेना ने देखा था।

a

इतना ही नहीं उन्होंने आगे कहा कि जांच में वहां पर एक ही आकार मिला। साथ ही सब कुछ सफेद रंग का था। ऐसे में उन्हें वो दृश्य याद आ गया, जो पालट्स ने देखा था। इसके बाद यूट्यूबर ने सवाल उठाते हुए कहा कि क्या ये चीजें (पॉड्स) उतरती हैं और रिचार्ज करती हैं? क्या यह इन उड़ने वाली मशीनों के लिए किसी तरह का चार्जिंग स्टेशन है, जिसे लोग दुनियाभर में लोग देख रहे हैं? वैसे उनकी ओर से जारी फोटो में दिख रही त्रिकोणीय इमारत लगभग 310 फीट लंबी है।

बता दें कि भले ही वीडियो में यूट्यूबर बार-बार इस बात पर भी जोर देता रहा कि ये जगह यूएफओ (UFO) का चार्जिंग स्टेशन है। यहां पर आने वाले एलियंस के विमान चार्जिंग कर आगे की उड़ान तय करते हैं, लेकिन उसके बहुत से सब्सक्राइबर ये बात मनाने को तैयार नहीं थे। एक शख्स ने कमेंट कर लिखा कि ये एक रूसी सैन्य हवाई अड्डा हो सकता है, जिसे फ्रांज जोसेफ लैंड के द्वीपसमूह में आर्कटिक ट्रेफिल बेस के रूप में जाना जाता है।

वहीँ कुछ दिनों पहले अमेरिका के नैशविले शहर में लोग तब हैरान रह गए थे, जब उन्हें आसमान में एक चमकती हुई रोशनी दिखाई दी। उस समय कुछ लोगों का दावा था कि वो यूएफओ का फ्लीट (काफिला) था, जो सुबह के वक्त लोगों को नजर आया। हर यूएफओ के चारों ओर काफी ज्यादा रोशनी थी, जिसे देखकर लोग हैरान रह गए।

आख़िर में जानकारी के लिए बता दें कि इस विषय पर दूसरी ओर हॉवर्ड यूनिवर्सिटी के दो मशहूर वैज्ञानिक एवि लोएब और आमिर सिराज ने दावा किया है कि वो एलियंस की दुनिया खोजने के काफी करीब पहुंच गए हैं। अगर सबकुछ सही रहा, तो बहुत जल्द वो गैलेक्सी में मौजूद एलियंस के ग्रह का पता लगा लेंगे।

हॉवर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों का ये दावा काफी बड़ा माना जा रहा है, क्योंकि कई वैज्ञानिक लगातार हॉवर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिक एवि लोएब के प्रोजेक्ट का विरोध कर रहे हैं। उनका कहना है कि एवि लोएब को ऐसे प्रोजेक्ट पर काम नहीं करना चाहिए, जिससे पृथ्वी के लिए खतरा उत्पन्न हो जाए। कुल-मिलाकर देखा जाए तो एलियन इस धरती या किसी ग्रह पर हैं या तो भविष्य बताएगा, लेकिन आएं दिन कहीं न कहीं से ऐसी बातें एलियन को लेकर निकलकर आती है। जो कौतूहल पैदा कर देती है।

Post a Comment

From around the web