समीक्षा गनेड़ीवाल: 19 रु. में 'कागज़ी बोतल' बनाकर दुनिया को प्लास्टिक बोतल का विकल्प दे दिया

 

लाइफस्टाइल डेस्क, जयपुर।। जब आप कोई सपना देखते हैं और उसे पूरा करने की ठान लेते हैं, तो उसमें लगने वाला समय और आपकी मेहनत दोनों ही कमाल का परिणाम लेकर आते हैं। ऐसा ही एक सपना देखा था, समीक्षा गनेरीवाल ने। प्लास्टिक से होने वाले प्रदूषण के खतरे को कम करने और एक स्थायी विकल्प तलाशने के लिए, नोएडा (उत्तर प्रदेश) में उन्होंने एक स्टार्टअप लॉन्च किया। उनकी कंपनी का दावा है कि ‘कागज़ी बॉटल्स’ देश का पहला ऐसा स्टार्टअप है, जो 100% कम्पोस्टेबल कागज़ से बनी बोतलें बनाता है।

साल 2018-19 की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में सालाना 33 लाख मीट्रिक टन प्लास्टिक कचरा निकलता है। ‘कागज़ी बॉटल्स’ की फाउंडर समीक्षा गनेरीवाल को सिंगल यूज प्लास्टिक का विकल्प खोजने का विचार पहली बार तब आया, जब वह एक कॉलेज प्रोजेक्ट पर काम कर रही थीं। द बेटर इंडिया से बात करते हुए 38 साल की समीक्षा ने कहा, “अपने कॉलेज के दिनों में मैंने प्लास्टिक की थैलियों को बदलने के लिए एक प्रोजेक्ट पर काम किया था, लेकिन तब प्लास्टिक का कोई दूसरा विकल्प था ही नहीं।”

समीक्षा गनेरीवाल ने कहा, “मैं हमेशा इस बारे में सोचती रही, क्योंकि मैं अपनी जीवनशैली में बदलाव लाना चाहती थी, लेकिन कोई विकल्प ढूंढ नहीं पाई और बस तभी मैंने इस दिशा में कुछ करने का फैसला किया।” हालांकि, प्लास्टिक पैकेजिंग का विकल्प तैयार करने का उनका सपना, कई साल बाद 2018 में साकार हुआ। साल 2006 में विग्नना ज्योति इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (Vignana Jyothi Institute of Management) से एमबीए करने के बाद, उन्होंने हैदराबाद और नोएडा में कई मल्टीनेशनल कंपनियों में काम किया। वर्ष 2016 में, उन्होंने अपनी पैकेजिंग से जुड़ी एक कंपनी की स्थापना की और उसी दौरान, उन्होंने प्लास्टिक की बोतलों के विकल्प तलाशने शुरू कर दिए। साल 2018 में, जब वह अपने किसी क्लाइंट के लिए एक इको फ्रेंडली पैकेजिंग प्रोजेक्ट पर काम कर रही थीं, तब उन्होंने एक ऐसी कंपनी बनाने का फैसला किया, जो पूरी तरह से 100% कम्पोस्टेबल कागज़ की बोतलें बनाने पर फोकस्ड हो।

प्लास्टिक का विकल्प तलाशने की गहरी रुचि तो उनमें थी, लेकिन इस क्षेत्र में उन्होंने कोई शैक्षिक ट्रेनिंग नहीं ली थी। इसलिए, उन्होंने ऐसे इको फ्रेंडली प्रोड्क्ट बनाने के लिए, कई डिजाइनर और वैज्ञानिकों से सलाह ली। अगले दो सालों तक, उन्हें कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा। दरअसल इस तरह के प्रोड्क्ट कैसे बनाये जाते हैं, इस बारे में उनके पास ज्यादा जानकारी नहीं थी। समीक्षा ने बताया, “जब मैंने शुरुआत की, तब सही मशीनें ढूंढ़ना मेरे लिए सबसे बड़ी चुनौती थी। केवल बाजार जाकर मशीन खरीदना संभव नहीं था, क्योंकि यह भारत में यह अपनी तरह की पहली मशीन थी। हमें मशीनों को शुरुआत से बनाना था। मुझे प्रोड्क्ट को ध्यान में रखते हुए, उन्हें बनाने में मदद करने के लिए सही लोगों की तलाश करनी थी।”

समीक्षा के लिए दूसरी चुनौती यह थी कि उनके प्रोड्क्ट को देखकर, ग्राहक कैसी धारणाएं बनाएंगे। जब प्रोड्क्ट का पहला सैंपल तैयार हुआ, तो उन्होंने इसे अपने दोस्तों और परिवार को दिखाया। वह कहती हैं, “वे बोतल के आकार और रंग से काफी हैरान थे, क्योंकि वह पूरी तरह से भूरा था और अक्सर लोग ट्रांसपेरेंट या पारदर्शी प्लास्टिक की बोतलों का ही इस्तेमाल करते हैं। लेकिन, आखिरकार उन्हें हमारा प्रोड्क्ट पसंद आया और हमारे काम से भी वे काफी खुश हैं।”

सरकार ने साल 2019 में बैग, चम्मच और कप जैसी सिंगल यूज़ वाली प्लास्टिक की चीजों पर, पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया था, जिससे समीक्षा को यह अहसास हुआ कि अब प्लास्टिक के विकल्पों की तलाश करना बहुत ज्यादा जरूरी है। ‘कागज़ी बॉटल्स’ को स्थापित करने के दो साल से ज्यादा समय के बाद, दिसंबर 2020 में बोतल का एक प्रोटोटाइप लॉन्च किया गया था, जो बिना किसी प्लास्टिक के बना था और 100% कम्पोस्टेबल था।

Post a Comment

From around the web