365 रानियों का इकलौता पति था ये राजा, रात गुजारने के लिए ऐसे करता था फैसला

 
s

लाइफस्टाइल डेस्क, जयपुर।। दुनिया को पता है की गोरे लोगो से पहले हमारे भारत देश में राजा रजवाड़ो का राज हुआ करता था। राजाओं के अपने अनोखे रॉयल जीने का तरीका हुआ करता था। यहां तक कि वो एक-दो नहीं, बल्कि कई शादियां करते थे और कई औरते बिना शादियों के रखते थे। ऐसे ही एक राजा पटियाला स्टेट के थे भूपिंदर सिंह, जिनकी 365 रानी थी। आइये जानते है इनके बारे में कुछ खास बातें। 

राजा की 365 रानियां थी पटियाला स्टेट के राजा थे राजा भूपेंद्र सिंह। राजा भूपिंदर सिंह साल 1900 से लेकर साल 1938 तक पटियाला में राज किया। इस दौरान राजा भूपिंदर सिंह ने 38 साल तक राज किया। वहीं राजा की कुल 365 रानियां थी, जिनके लिए राजा ने अलग-अलग कई भव्य राजमहल बनवा रखे थे। इनके जीवन में सबसे ज्यादा हैरान करने वाली बात ये थी कि वो कुछ बहुत अलग तरह से इस बात का फैसला किया करते थे कि उन्हें किस अपनी रानी के साथ कब रात गुजरानी है। 

s

ऐसे करते थे फैसला राजा भूपिंदर सिंह के महल में बहुत सारे लालटेन जला करते थे। लेकिन सबसे जरूरी बात ये थी कि वो अपनी 365 रानियों के लिए राजा भूपिंदर सिंह अलग से लालटेन जलवाते थे। इन सभी लालटेन में सभी रानियों के नाम अलग अलग लालटेन में होते थे। वहीं ये लालटेन रात भर जला करती थी और जब सुबह सुबह जो लालटेन सबसे पहले बुझ जाती थी, उस लालटेन में लिखे रानी के नाम को राजा पढ़ते थे और फिर राजा भूपिंदर सिंह उस रानी के साथ आने वाली रात बिताते थे।

10 एकड़ क्षेत्र में फैला है किला महाराजा भुपिंदर सिंह का महल पटियाला शहर के बीचोबीच 10 एकड़ के विशाल क्षेत्र में फैला हुआ है। मुख्य महल, गेस्ट हाउस और राजा का दरबार हॉल इस किले के परिसर के प्रमुख भाग हैं। इस परिसर के बाहर दर्शनी गेट, शिव मंदिर और दुकानें हैं। इन दोनों महलों को बड़ी संख्या में भीत्ति चित्रों से सजाया गया है, जिन्हें महाराजा नरेन्द्र सिंह की देखरेख में बनवाया गया था। राजा का किला मुबारक के अंदर बने इन महलों में 16 रंगे हुए और कांच से सजे हुए चैंबर हैं।
 

Post a Comment

From around the web