सुबह उठा तो बदल गई ​किस्मत, मजदूर के खाते में आये 10 करोड

 
सुबह उठा तो बदल गई ​किस्मत, मजदूर के खाते में आये 9.99 करोड

लाइफस्टाइल डेस्क, जयपुर।।  इस दुनिया में आये दिन अजीबो गरीब घटनायें होती रहती है, आयें दिन लोगों का सामना विचित्र घटनाओं से होता रहता है, आज हम आपको ऐसी बात बताने वाले है जिसे सुनकर आप विश्वास नहीं कर पायेंगे। ऐसा एक मामला है जहां एक दिहाड़ी मजदूर को पता चला कि यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, सुपौल शाखा में उसके पास 9.99 करोड़ रुपये खाते में हैं। यहां मजेदार बात ये है कि विपिन चौहान नाम के मजदूर का दावा है कि उसने कभी किसी बैंक में खाता ही नहीं खोला। विपिन चौहान बिहार के सुपौल शहर के सिसौनी इलाके के मूल निवासी है जो गुरुवार को मनरेगा के लिए जॉब कार्ड खोलने के लिए यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के ग्राहक सेवा केंद्र पर गए थे।

इसके बाद जब सीएसपी आउटलेट के अधिकारी ने आधार कार्ड नंबर से विपिन चौहान की वित्तीय स्थिति की जांच की, तो देखाकि उनके नाम पर पहले से एक खाता बना हुआ है और बचत खाते में उनके नाम पर 9.99 करोड़ रुपये जमा हैं।

इसके आगे बता दें कि, जब चौहान ने संबंधित बैंक शाखा से संपर्क किया है और अधिकारियों ने खाते की जांच की तो पता चला कि इसे 13 अक्टूबर 2016 को खोला गया था। बैंक अधिकारी को मेरा और मेरे फोटोग्राफ, हस्ताक्षर या अंगूठे के निशान का पता नहीं चला। वर्तमान में, खाते में 9.99 करोड़ रुपये अभी भी बाकी हैं। केवल आधार कार्ड नंबर मेरा है। फरवरी 2017 में खाते में करोड़ों रुपये का लेनदेन हुआ। 

सुबह उठा तो बदल गई ​किस्मत, मजदूर के खाते में आये 9.99 करोड

यह पता लगाने के लिए आंतरिक जांच चल रही है कि क्या इस खाते के साथ लेनदेन में अन्य खातों का इस्तेमाल किया गया था।" यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के एक अधिकारी ने कहा, "हमारे संज्ञान में आने के बाद हमने बैंक खाते को फ्रीज कर दिया है। 

आपकी जानकरी के लिए बता दें, कुछ दिन पहले ही एक और घटना कटिहार जिले में सामने आई जब कक्षा 6 के दो स्कूली छात्रों आशीष कुमार और गुरुचरण विश्वास को 15 सितंबर को उनके बैंक खातों में क्रमश: 6,20,11,100 रुपये और 90,52,21,223 रुपये मिले।

Post a Comment

From around the web