तेजी से मोटे‍ होते हैं नॉनवेज खाने वाले बच्चे, अभी से दें Parents खाने-पीने पर ध्यान

 
तेजी से मोटे‍ होते हैं नॉनवेज खाने वाले बच्चे, अभी से दें Parents खाने-पीने पर ध्यान

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। हाल के दिनों में बच्चों में मोटापा नाटकीय रूप से बढ़ा है। हालांकि, कई माता-पिता को यह एहसास नहीं होता है कि उनका बच्चा दिन पर दिन मोटा होता जा रहा है और इससे स्वास्थ्य खराब हो सकता है। हालांकि, अस्वास्थ्यकर आहार, कम शारीरिक गतिविधि, पर्याप्त नींद न लेना, हार्मोनल परिवर्तन मोटापे का कारण माना जाता है, लेकिन जो बच्चे नॉन-वेज खाते हैं, उनमें इसका खतरा अधिक होता जा रहा है। एक स्टडी में यह दावा किया गया है।

शाकाहारी भोजन में पोषक तत्व नहीं होते हैं
कनाडा के टोरंटो में सेंट मिशेल अस्पताल के नेतृत्व में किए गए अध्ययन में पाया गया कि शाकाहारी बच्चों का वजन मांसाहारी बच्चों की तुलना में आधे से भी कम होता है। वहीं, मांस खाने वाले बच्चों में मोटे होने का खतरा अधिक होता है। वैज्ञानिकों द्वारा बताए गए कारणों में से एक शाकाहारी भोजन में बच्चों के विकास के लिए आवश्यक पोषक तत्वों की कमी है।

तेजी से मोटे‍ होते हैं नॉनवेज खाने वाले बच्चे, अभी से दें Parents खाने-पीने पर ध्यान

अध्ययन में 9,000 बच्चे शामिल थे
अध्ययन में 9,000 बच्चे शामिल थे, जिनमें से 250 शाकाहारी थे। इन बच्चों का कद, बॉडी मास इंडेक्स और पोषण लगभग वही था जो मांस खाने वाले बच्चों का था। लेकिन जब उनके बीएमआई की गणना की गई तो पता चला कि शाकाहारी बच्चों का वजन 94 फीसदी कम था। शोध में पाया गया कि 8,700 मांसाहारी बच्चों में से 78% की उम्र सही थी। शाकाहारी बच्चों में से 79 प्रतिशत उचित वजन के थे।

मांसाहारी बच्चों का वजन कम नहीं होता
उम्र के हिसाब से कम वजन वाले बच्चों को देखा जाए तो केवल 3% मांसाहारी ही कम वजन के पाए गए। ऐसे शाकाहारी बच्चों की संख्या 6% है। वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि एशिया में बच्चे ज्यादातर शाकाहारी होते हैं, जिससे उनके वजन कम होने की संभावना बढ़ जाती है। भारत में 5 साल की लड़की का वजन 17 किलो होना चाहिए और उसकी लंबाई 108 सेंटीमीटर होनी चाहिए। वहीं, अमेरिका में वजन 18 किलो होना चाहिए।

तेजी से मोटे‍ होते हैं नॉनवेज खाने वाले बच्चे, अभी से दें Parents खाने-पीने पर ध्यान

इस तरह से करें बच्चों का मोटापा कम

बच्चों के खेलने के लिए कम से कम एक घंटा अलग रखें। यह शारीरिक और मानसिक विकास के लिए जरूरी है। बच्चों को मीठा या वसायुक्त भोजन करने से पूरी तरह मना न करें अन्यथा उनकी इच्छा बढ़ जाएगी। बच्चों को फल खिलाएं, इससे उनका वजन भी नियंत्रित रहेगा और शरीर को भरपूर पोषक तत्व मिलेंगे।

उन्हें आराम से खाने के लिए कहें और चबाएं ताकि उनका पेट सही समय पर भर जाए। आइसक्रीम और चिप्स की जगह फलों या सब्जियों को नाश्ते के रूप में परोसें।

दूध बच्चों के विकास के लिए बहुत जरूरी है इसलिए मोटापा कम करते हुए दूध को डाइट में जरूर शामिल करें।

Post a Comment

From around the web