नवजात शिशु की अगर तेजी से चल रही है सांसे, तो Parents हो जाये सावधान इन तरीकों से रखें ध्यान

 
s

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। छोटे बच्चे की देखभाल को लेकर माता-पिता के मन में कई सवाल उठते हैं। अगर बच्चे की सांस लेने की गति भी तेज हो जाए तो माता-पिता घबरा जाते हैं। नवजात शिशु की तेजी से सांस लेना माता-पिता के लिए चिंता का कारण हो सकता है। शिशुओं के फेफड़े छोटे होते हैं, इसलिए उनकी सांस तेज हो सकती है। जैसे-जैसे बच्चे उम्र के साथ बढ़ते हैं, उनके शरीर का भी विकास होता है। बच्चे के फेफड़ों की क्षमता भी बढ़ जाती है। लेकिन क्या कारण है कि बच्चा जोर से सांस लेता है? आज मैं आपको इसके बारे में बताऊंगा…

इसलिए बच्चे की सांस तेज होती है
अगर आपके बच्चे की सांस तेज चल रही है और उसे अपने पेट की मांसपेशियों में काफी हलचल महसूस हो रही है, तो आपको उसे तुरंत डॉक्टर के पास ले जाना चाहिए। अपने बच्चे की डॉक्टर से जांच अवश्य कराएं। अंदर पर्याप्त ऑक्सीजन न मिलने के कारण बच्चे को सांस लेने में भी परेशानी हो सकती है।
इसके अलावा बच्चे को फेफड़े की बीमारी होने पर भी उसे सांस लेने में दिक्कत हो सकती है।
नाक में बलगम जमा होने के कारण बच्चे को सांस लेने में भी दिक्कत होती है।

गले का संक्रमण भी बच्चे में तेजी से सांस लेने का कारण बन सकता है।

आपका बच्चा सर्दी होने पर भी सांस ले सकता है।

क्या करें
अगर आपके बच्चे को सांस लेने में तकलीफ हो रही है, तो आप उसे एंटीबायोटिक्स दे सकते हैं। कई बार संक्रमण के कारण बच्चे की सांस भी तेज हो सकती है। जन्म के 5-6 घंटे के भीतर नवजात की जांच करानी चाहिए। यदि आप अपने बच्चे की सांस लेने की प्रक्रिया के बारे में चिंतित हैं तो आप डॉक्टर से भी सलाह ले सकते हैं। इसके अलावा जब आप तेज सांस लें तो बच्चे की पीठ थपथपाएं, बच्चे को सही स्थिति में रखें। ऐसा करने से बच्चे की सांस लेने की प्रक्रिया भी सामान्य हो जाएगी।

पल्स रेट चेक करें
आप समय-समय पर नवजात की पल्स रेट भी चेक करते रहें। आपके शिशु की हृदय गति 160 बीट प्रति मिनट तक है। जब बच्चा सक्रिय होता है तो हृदय गति थोड़ी बढ़ सकती है। अगर आपको लगता है कि शिशु की सांसें तेज चल रही हैं, तो आपको उसकी पल्स रेट भी चेक करनी चाहिए। अगर आपको लगता है कि शिशु की नब्ज अनियमित हो रही है, तो आपको उसे तुरंत डॉक्टर के पास ले जाना चाहिए।

बच्चे की श्वसन दर भी जांचें
माता-पिता को यह भी ध्यान रखना चाहिए कि एक मिनट में बच्चे की छाती कितनी बार उठती है। इसे चेक करने के लिए आप अपना हल्का हाथ बच्चे की छाती पर रखें। ऐसा करने से आपको पता चल जाएगा कि शिशु कितनी बार सांस ले रहा है। लेकिन सावधान रहें कि बच्चे की छाती पर तेज हाथ न रखें।

Post a Comment

From around the web