बच्चों में बढ रही है लिवर की रहस्यमयी बीमारी, जानिए इसके ​लक्षण व बचाव के तरीके

 
बच्चों में बढ रही है लिवर की रहस्यमयी बीमारी, जानिए इसके ​लक्षण व बचाव के तरीके

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। हेपेटाइटिस की एक रहस्यमयी बीमारी पूरी दुनिया में पैर पसार रही है। 21 देशों में फैल चुकी इस बीमारी में अब तक 450 मामले सामने आ चुके हैं, जिनमें से 12 बच्चों की मौत हो चुकी है। एक महीने से लेकर 16 साल तक के बच्चों पर हेपेटाइटिस का असर हो रहा है, जिसके लिए अलर्ट जारी किया गया है। WHO भी मौजूदा हालात पर पैनी नजर रखे हुए है।

21 देशों में फैल चुकी है यह बीमारी
गंभीर हेपेटाइटिस अप्रैल की शुरुआत में देखा जाता है। अब तक यह 21 देशों में फैल चुका है। इस बीमारी ने अमेरिका और इंडोनेशिया में प्रत्येक में पांच और आयरलैंड और फिलिस्तीन में एक-एक लोगों की जान ले ली है। बच्चों के साथ-साथ कुछ युवाओं ने भी इस बीमारी की चपेट में आकर दम तोड़ दिया है। डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, कम से कम 20 बच्चे कोविड और एडिनोवायरस दोनों से संक्रमित पाए गए हैं, जिससे बच्चों में लीवर में सूजन जैसी गंभीर समस्या हो रही है। हालांकि, अधिक शोध और ठोस जानकारी की आवश्यकता है।

बच्चों में बढ रही है लिवर की रहस्यमयी बीमारी, जानिए इसके ​लक्षण व बचाव के तरीके

हेपेटाइटिस क्या है?
हेपेटाइटिस मूल रूप से लीवर की एक बीमारी है जो वायरल संक्रमण के कारण होती है। इस रोग के कारण लीवर में सूजन आ जाती है। हेपेटाइटिस में 5 प्रकार के वायरस होते हैं, जैसे ए, बी, सी, डी और ई। इन पांच वायरस को गंभीरता से लेना चाहिए क्योंकि ये हेपेटाइटिस को महामारी की तरह बना देते हैं। हालांकि, हेपेटाइटिस बी और सी वाले 90% से अधिक लोगों को पता नहीं है कि वे संक्रमित हैं क्योंकि रोग में लक्षण बहुत बाद में दिखाई देते हैं।

इन देशों में फैल रही है बीमारी
डब्ल्यूएचओ के अनुसार, ब्रिटेन, संयुक्त राज्य अमेरिका, स्पेन, इज़राइल, डेनमार्क, आयरलैंड, नीदरलैंड, इटली, नॉर्वे, फ्रांस, रोमानिया और बेल्जियम में रहस्यमय हेपेटाइटिस के मामले सामने आए हैं। बच्चों में गंभीर हेपेटाइटिस के प्रकोप को एडेनोवायरस उपप्रकार 41 के रूप में जाना जाता है। पहले इस बीमारी को एक दुर्लभ बीमारी माना जाता था, लेकिन बच्चों में मामलों की संख्या और बीमारी की गंभीरता को देखते हुए इसके कारणों की जांच की जा रही है।

बच्चों में बढ रही है लिवर की रहस्यमयी बीमारी, जानिए इसके ​लक्षण व बचाव के तरीके

हेपेटाइटिस के कारण
विभिन्न प्रकार के इस रोग के अलग-अलग कारण हो सकते हैं। शराब के अत्यधिक सेवन से लीवर में सूजन या क्षति हो सकती है। अल्कोहलिक हेपेटाइटिस भी कहा जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि शराब सीधे लीवर की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाती है और धीरे-धीरे लीवर की विफलता या सिरोसिस का कारण बनती है। कुछ दवाओं का अत्यधिक उपयोग भी एक प्रमुख कारण है। कभी-कभी आपका इम्यून सिस्टम गलती से यह सोच लेता है कि लिवर शरीर के लिए हानिकारक है और उस पर हमला कर देता है। इससे सूजन हो सकती है और इसे ऑटोइम्यून प्रतिक्रिया कहा जाता है।
 

 हेपेटाइटिस के लक्षण
- भूख में कमी

- उल्टी करना

-आंखों का पीला पड़ना

कई हफ़्तों तक बुखार

- पीला मूत्र

- पेट में दर्द

- अचानक वजन कम होना

-जोड़ों का दर्द

अपने बच्चों को हेपेटाइटिस से कैसे बचाएं
अपने आसपास स्वच्छता का ध्यान रखें
मसालेदार, मांसाहारी और भारी भोजन से बचें।
सब्जियों और फलों को अच्छी तरह धोकर या पका लें।
हर बार एक नई सुई का प्रयोग करें।
अन्य लोगों के निजी सामान के उपयोग की अनुमति न दें।
हेपेटाइटिस के कोई भी लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

बच्चों में बढ रही है लिवर की रहस्यमयी बीमारी, जानिए इसके ​लक्षण व बचाव के तरीके

कुत्ते भी जांच के घेरे में
ब्रिटेन में वैज्ञानिक इस बात की जांच कर रहे हैं कि क्या यह बीमारी और गंभीर हो गई है। जांच में पाया गया है कि ब्रिटेन में कुत्तों वाले परिवारों के बच्चों में यह अधिक प्रचलित है।
 
पेटाइटिस का इलाज
हेपेटाइटिस ए आमतौर पर अपने आप ठीक हो जाता है और आराम करता है। लेकिन, अगर आपको उल्टी, दस्त आदि जैसी गंभीर समस्याएं हैं, तो शारीरिक जलयोजन आदि के लिए डॉक्टर से सलाह लें और खूब सारे तरल पदार्थ पिएं। हेपेटाइटिस सी के इलाज के लिए एंटीवायरल दवाएं दी जाती हैं, या हेपेटाइटिस सी के कारण सोरायसिस से पीड़ित लोगों को लीवर प्रत्यारोपण की आवश्यकता हो सकती है। हेपेटाइटिस डी और हेपेटाइटिस ई का कोई निश्चित इलाज नहीं है, लेकिन इसका इलाज आहार से किया जा सकता है।

Post a Comment

From around the web