Parentig Tips: बचपने में ही आंखों पर छाया धुंधलापन, इन 7 चीजों को खाकर आंखें करें तेज

 
बचपने में ही आंखों पर छाया धुंधलापन, इन 7 चीजों को खाकर आंखें करें तेज

खराब लाइफस्टाइल, कंप्यूटर और स्क्रीन पर ज्यादा समय बिताना बच्चों की आंखों पर भारी पड़ रहा है। समय से पहले बच्चों की आंखें कमजोर होती हैं, उन्हें बचपन में चश्मा लगाना पड़ता है। ऐसे में माता-पिता भी इस बात को लेकर परेशान रहते हैं कि अपनी डाइट में किन चीजों को शामिल करें, ताकि उनकी आंखें स्वस्थ रह सकें। तो आइए आपको बताते हैं कुछ ऐसे फूड्स के बारे में जिन्हें आप बच्चों की डाइट में शामिल कर सकते हैं।

हरे पत्ते वाली सब्जियां

PunjabKesari
आप बच्चों को हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करवा सकते हैं। इसमें एंटी-ऑक्सीडेटिव गुणों वाले कैरोटीनॉयड होते हैं। यह आंखों से फ्री रेडिकल्स को हटाकर उन्हें दूर करता है। इसके अलावा विटामिन-ए भी काफी अच्छी मात्रा में पाया जाता है। आप बच्चों को छोटी उम्र से ही ब्रोकली, केला और पालक जैसी सब्जियां खिला सकते हैं। अगर आप इन सब्जियों को बच्चों को कच्चा खिलाना चाहते हैं तो यह उनके लिए ज्यादा फायदेमंद होगा।

रंगीन सब्जियां डालें
टमाटर, मूली जैसी सब्जियां भी आंखों की सेहत के लिए काफी फायदेमंद मानी जाती हैं। यह आंखों में मैकुलर डिजनरेशन को होने से रोकता है। धब्बेदार अध: पतन एक ऐसी समस्या है जो धुंधली दृष्टि का कारण बनती है। आप बच्चों को गाजर, शकरकंद जैसी चीजें भी दे सकते हैं, इनमें बीटा कैरोटीन होता है जो आंखों को सूरज की हानिकारक किरणों से बचाने में मदद करता है। बीटा कैरोटीन रेटिना को स्वस्थ रखने में भी मदद करता है। इसके अलावा आप बच्चों को शिमला मिर्च भी दे सकते हैं। आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए इसे बहुत अच्छा स्रोत माना जाता है।

सूखे मेवे और बीज खिलाएं

PunjabKesari
आप बच्चों को काजू, बादाम, पिस्ता, मूंगफली के दाने दे सकते हैं. इसमें विटामिन-ई अच्छी मात्रा में पाया जाता है। यह बच्चों में मायोपिया के खतरे को कम करता है। इसके अलावा इन मेवों में विटामिन-ई अच्छी मात्रा में पाया जाता है। विटामिन-ई और ओमेगा-3 सूखी आंखों से बचाने में मदद करते हैं। बीज के लिए आप बच्चों को चिया और अलसी दे सकते हैं। इन दोनों बीजों का सेवन करने से बच्चों की आंखों की समस्या दूर हो जाएगी।

सौंफ, बादाम और काला नमक
आप बच्चों को सौंफ, काला नमक और बादाम दे सकते हैं। इन तीनों चीजों को पर्याप्त मात्रा में लेकर चूर्ण बना लें। तैयार पाउडर को एक एयरटाइट कंटेनर में रखें। आप रोज रात को सोने से पहले या सुबह खाली पेट इस पाउडर को गर्म दूध में मिला सकते हैं।

त्रिफला दें

PunjabKesari
आप बच्चों को त्रिफला खिला सकते हैं। आयुर्वेद के अनुसार इसे कई बीमारियों के इलाज में काफी फायदेमंद माना जाता है। आंखों की बूंदों में त्रिफला का प्रयोग भी आंखों में सूजन, लाली और दर्द को कम कर सकता है। इसमें विटामिन-सी, एंटीऑक्सीडेंट जैसे गुण होते हैं। ये गुण आंखों को किसी भी तरह के ऑक्सीडेटिव तनाव से बचाने में भी मदद करते हैं। आप बच्चों को त्रिफला चूर्ण का काढ़ा दे सकते हैं या चाय बना सकते हैं।


इन चीजों की भी बनाएं आदत

PunjabKesari
बच्चों को नहीं पता होता है कि उनकी सेहत और आंखों के लिए क्या जरूरी है। ऐसे में माता-पिता को अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना होगा। अपने बच्चों की आदत बना लें कि यदि वे इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स का उपयोग कर रहे हैं तो वे समय-समय पर पलकें झपकाएं। पलक झपकने से उनकी आंखों को काफी आराम मिलेगा। इसके अलावा आप बच्चों में भी घड़ी की विपरीत दिशा में आंखें घुमाने की आदत डालें। साथ ही उनकी आंखें भी स्वस्थ रहेंगी।

Post a Comment

From around the web