बच्चों को रखना है फिट और बीमारीयों से दूर, तो रूटीन में करवायें ये 5 योगासन

 
बच्चों को रखना है फिट और बीमारीयों से दूर, तो रूटीन में करवायें ये 5 योगासन

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। योग बड़ों के साथ-साथ बच्चों के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। तनावपूर्ण जीवन से राहत पाने के लिए आप बच्चों को नियमित योगाभ्यास भी सिखा सकते हैं। अपने बच्चों को स्वस्थ रखने के लिए आपको शुरू से ही योग की आदत डालनी होगी। इससे उनका स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा और उनका स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा। आप इस योगासन को अपने बच्चों की दिनचर्या में शामिल कर सकते हैं। तो आइए जानते हैं इनके बारे में...

PunjabKesari

अधो मुख स्वानासन करवाएं
इस आसन को करने से दिमाग का विकास होता है और श्वसन तंत्र स्वस्थ रहता है। यह आसन शरीर के ऊपरी हिस्से को मजबूत करता है और शरीर से थकान दूर करने में मदद करता है। इस आसन को अंग्रेजी में डाउनवर्ड फेसिंग पोज भी कहते हैं।

अधो मुख स्वानासन कैसे करें?
सबसे पहले आप पेट के बल जमीन पर लेट जाएं।
फिर दोनों हथेलियों को छाती के पास लाएं और ऊपर की ओर ले जाएं।
 अपने कूल्हों को जमीन से ऊपर उठाएं। फिर दोनों पैरों को देखें।
आप इस आसन को 5-10 मिनट तक दोहराएं।
 आवंटित समय के बाद आप सामान्य स्थिति में लौट आते हैं।

दो धनुरासन
धनुरासन करने से छाती, कंधे, हाथ, पेट और जांघों को अच्छी तरह से स्ट्रेच किया जाता है। इसके अलावा, यह आसन पीठ और पैर की मांसपेशियों को मजबूत करके उचित मुद्रा बनाए रखने में मदद करता है। यह बच्चों की पाचन शक्ति को भी बढ़ाता है। इसे धनुष मुद्रा भी कहते हैं।

कैसे करना है
सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं और अपने दोनों हाथों को सीधा रखें।
फिर पैरों को घुटनों पर मोड़ें, गहरी सांस लें और छाती को ऊपर की ओर उठाएं।
अपने दोनों पैरों की एड़ियों को दोनों हाथों से पकड़ें।
 सांस छोड़ें और सामान्य स्थिति में लौट आएं।

भुजंगासन करवाएं
तुम बच्चों को भी भुजंगासन करना चाहिए। इसे स्नेक पोज भी कहा जाता है। इस आसन को करने से बच्चों के हाथों की मांसपेशियां मजबूत होती हैं और बच्चों की रीढ़ और काठ की हड्डियां मजबूत होती हैं। पाचन तंत्र को मजबूत करने के लिए यह आसन किया जा सकता है।

कैसे करना है
 सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं। फिर दोनों हथेलियों को अपनी छाती के पास रखें।
सांस भरते हुए सिर, कंधों और छाती को ऊपर की ओर उठाएं।
इसके बाद सांस छोड़ते हुए अपने सिर को नीचे लाएं
गर्दन को पीछे की ओर रखते हुए सांस अंदर लें और यही प्रक्रिया दोहराएं।
इस स्थिति में 15-30 सेकेंड तक रहें और फिर सामान्य अवस्था में लौट आएं।

एक त्रिकोण बनाओ
शरीर को स्ट्रेच करने के लिए त्रिकोणासन सबसे अच्छा माना जाता है। यह हाथ, पैर, कूल्हों और रीढ़ को मजबूत करता है। इसके अलावा यह नर्वस सिस्टम को बेहतर बनाता है।

त्रिकोणासन कैसे करें?
- सबसे पहले सीधे खड़े हो जाएं।
फिर सांस छोड़ते हुए दोनों पैरों के बीच गैप बनाएं।
 दोनों हाथों को उठाकर बाईं ओर मुड़ें।
फिर बाएं पैर को छुएं और बायीं हथेली को देखें।
इसी तरह दाहिने पैर को छुएं और दाहिनी हथेली की ओर देखें।
इस आसन को आप 15-20 सेकेंड तक कर सकते हैं।

ऑस्ट्रिच पोज
इस आसन को करने से बच्चों में एकाग्रता और ध्यान बढ़ता है। यह बच्चों को उनके काम को संतुलित करने में भी मदद करता है। शुतुरमुर्ग की तरह दौड़ने से बच्चों का तनाव दूर होता है। इस मुद्रा में आप शुतुरमुर्ग की मुद्रा में हैं। इसलिए इसे ऑस्ट्रिच पोज कहते हैं।

कैसे करना है
 सबसे पहले सीधे खड़े हो जाएं। फिर दोनों पैरों के बीच थोड़ी दूरी बनाकर रखें।
कमर से थोड़ा आगे की ओर झुकें और फिर दोनों हाथों से उंगलियों को पीछे की ओर ले जाएं।
धीरे-धीरे अपने पैर की उंगलियों पर खड़े होने की कोशिश करें।
इस मुद्रा में चलने की कोशिश करें। इस आसन को 15-20 सेकेंड तक करें और फिर सामान्य मुद्रा में लौट आएं।

Post a Comment

From around the web