क्या आपको पता है इस  महामारी में बच्चो का मोटापा बढता ही जा रहा है ऐसे में क्या करे 

 
फट

कोरोना (Corona) महामारी के चलते दुनियाभर में लोग कई तरह की परेशानियों से जूझ रहे हैं. वर्क फ्रॉम होम (Work From Home) के प्रेशर से लेकर कई तरह की दूसरी बीमारियों से भी लोग परेशान नजर आने लगे हैं. वहीं कई लोगों को घर में रहने की वजह से मोटापे (Obesity) की भी शिकायत होने लगी है. मोटापा न सिर्फ बड़ों को परेशान कर रहा है बल्कि इससे बच्चे भी नहीं बच पा रहे हैंमहामारी से बच्चों में मोटापे की समस्या बढ़ रही है. ऐसे में बच्चे टाइप-2 डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर और लीवर संबंधी बीमारियों के शिकार हो सकते हैं. ये आशंकाएं मई में पीडियाट्रिक्स जर्नल में एक स्टडी में सही साबित भी हुई हैं

फट

चिल्ड्रंस हॉस्पिटल, फिलाडेल्फिया में 2 से 17 वर्ष की आयु के 5 लाख बच्चों, किशोरों के बॉडी मास इंडेक्स की जांच कर शोधकर्ताओं ने पाया कि जनवरी 2019 से दिसंबर 2020 के बीच बच्चों में मोटापा कुल 2 फीसदी बढ़कर 15.4 प्रतिशत हो गया है. उससे पहले राष्ट्रीय स्तर पर बढ़ोतरी 1 प्रतिशत या उससे कम होती थी.अश्वेत, लेटिनो और कम आय वाले परिवारों के बच्चों में मोटापा अधिक देखा गया है. जीवन के शुरुआती दौर में मोटे होने वाले बच्चे बड़े होने पर भी मोटे रहते हैं. अमेरिका में पहले ही 40% वयस्क मोटापे से जूझ रहे हैं. शोधकर्ताओं ने बच्चों का वजन बढ़ने के कारणों का विश्लेषण भी किया है. उनके अनुसार स्कूलों में बच्चों को घर के मुकाबले अधिक पोषक और संतुलित आहार मिलता है. वह स्कूल में निश्चित समय पर कुछ खाते-पीते हैं. उन्हें दिनभर खाने के लिए स्नैक्स नहीं मिलते हैं. स्कूलों में समय समय पर शारीरिक गतिविधियां भी होती हैं. दूसरी ओर घरों के आसपास सुविधाओं के अभाव और सुरक्षा कारणों से बच्चों की हलचल सीमित रहती है.

Post a Comment

From around the web