अगर बच्चो का मन पढाई में नहीं लगता है तो फॉलो करे यह टिप्स 

 
नोट िनत
बच्चों को सही तरीके से पढ़ाई करवाने में पैरेंट्स (Parents) के पसीने छूट जाते हैं. कई बार तो ठीक से पढ़ाई (Education) न करने से माता-पिता की परेशानी और अधिक बढ़ जाती है. ऐसा कई कारणों से हो सकता है और इनमें से एक कारण घर का वास्तु भी हो सकता है. कोरोना काल में सभी बच्चे अपने घर पर ही ऑनलाइन क्लासेस (Online Classes) कर रहे हैं. ऐसे में उन पर पाढ़ाई का प्रेशर ज्यादा है और पैरेंट्स पर उन्हें संभालते हुए पढ़ाई कराने का. दरअसल कुछ वास्तु टिप्स को आजमा कर आप अपने बच्चों की पढ़ाई व भविष्य से जुड़ी कई प्रकार की दिक्कतों से छुटकारा पा सकते हैं. अगर आपके बच्चों का मन पढ़ाई में नहीं लग रहा है,
नोट िनत

अगर आप चाहते हैं कि आपके बच्चे मन लगाकर पढ़ाई करें और जीवन में सफलता हासिल करें तो वास्तु के अनुसार उनका स्टडी रूम तैयार करें. ऐसे में आपको बच्चों का स्टडी रूम पूर्व, उत्तर या फिर ईशान कोण में बनाना चाहिए.वास्तु अनुसार अगर पहले से ही स्टडी रूम पश्चिम दिशा में बना हुआ है तो ये सुनिश्चित करें कि बच्चा पूर्व दिशा की ओर मुंह करके ही पढ़ाई करे. इससे पढ़ाई करते वक्त मन फोकस्ड रहता है और निश्चत रूप से सफलता मिलती है.वास्तु अनुसार छात्रों को हमेशा दक्षिण या पश्चिम की ओर सिर करके ही सोना चाहिए. वास्तु की मानें तो पश्चिम में सिर करके सोने से पढ़ने की इच्छा और अधिक मजबूत होती है.वास्तु अनुसार स्डटी रूम में सूरज की रोशनी भरपूर मात्रा में आनी चाहिए. कहते हैं सूर्य नकारात्मक चीजों का नाश करता है और पॉजिटिव एनर्जी का संचार करता है. छात्रों को पढ़ाई के लिए पॉजिटिव एनर्जी की जरूरत होती है. ऐसे में ये ध्यान रखें कि स्टडी रूम में सूरज की रोशनी का प्रवेश हो और सुबह के समय कमरे की खिड़कियां खोलकर रखें.विद्या की देवी मां सरस्वती को माना जाता है

Post a Comment

From around the web