Pregnancy Tips: क्या केसर खाने से सचमुच गोरा होगा बच्चा?

 
s

लाइफस्टाइल डेस्क, जयपुर।। एक औरत की जिंदगी में प्रेग्‍नेंसी बहुत महत्‍वपूर्ण स्‍टेज होता है। इस समय उन्‍हें अपनी डाइट को लेकर कई सुनी-अनसुनी बातें सुनने को मिलती हैं। वहीं गोरा बच्‍चा पैदा करने के लिए भी सलाह मिल जाती है।माना जाता है कि प्रेग्‍नेंसी में केसर का दूध पीने से बच्‍चा गोरा पैदा होता है लेकिन क्‍या आप सच में जानती हैं कि ऐसा होता है? प्रेग्‍नेंसी के दिनों में माएं केसर के दूध का सेवन करती हैं क्‍योंकि यही माना जाता है कि केसर बच्‍चे के रंग को गोरा करता है। हालांकि, इस बात को साबित करने के लिए कोई वैज्ञानिक प्रमाण मौजूद नहीं है कि प्रेग्‍नेंसी में केसर खाने का ऐसा असर होता है। लेकिन ये जरूर है कि केसर खाने से स्किन की सेहत और टोन में निखार जरूर आता है इसलिए आप गर्भावस्‍था के साथ-साथ बाकी दिनों में भी केसर का सेवन कर सकती हैं।

​प्रेग्‍नेंसी में केसर का दूध पीने के फायदे

दूध में खूब प्रोटीन और कैल्शियम होता है जो प्रेग्‍नेंसी में जरूरी माना जाता है। गर्भावस्‍था में केसर का दूध पीने से पेट फूलने की समस्‍या दूर होती है। इससे भूख में भी सुधार आता है।प्रेग्‍नेंसी में मूड स्विंग्‍स और डिप्रेशन हो जाता है। केसर का दूध ऐसे में डिप्रेशन को कम करने का काम करता है। केसर का दूध गर्भवती महिला में एसिडिटी और पाचन संबंधी समस्‍याओं को भी दूर करने में मदद करता है।

कैसे बनाएं केसर का दूध

आप मिठाई या बिरयानी में केसर डालकर खा सकती हैं। रोजाना केसर का सेवन करने के लिए दूध सबसे अच्‍छा तरीका है। दूध को हल्‍का गर्म करें और उसमें दो से तीन स्‍ट्रैंड केसर के डालें। कुछ सेकंड रूक कर देखें दूध का रंग बदल रहा होगा। इससे पता चलता है कि केसर दूध में घुल रहा है। आप गुनगुना केसर का दूध पी सकती हैं।

​ज्‍यादा केसर खाने से क्‍या होता है

प्रेग्‍नेंसी में केसर के सेवन में सावधानी बरतना जरूरी होता है। ज्‍यादा केसर खाने की वजह से मिसकैरेज का जोखिम बढ़ सकता है। आपको प्रेग्‍नेंसी में एक दिन में 5 ग्राम से ज्‍यादा केसर नहीं खाना चाहिए।

​क्‍या हैं केसर के गुण

केसर विटामिन ए, विटामिन बी, आयरन, मैंगनीज, थायमिन और राइबोफ्लेविन होता है। केसर गैस और एसिडिटी को कम कर के पाचन को बढ़ावा देता है। प्रेग्‍नेंसी में केसर ऐंठन को कम करने में मदद करता है। केसर में एंटी-इंफ्लामेट्री गुण हेते हैं जो सांस से जुड़ी बीमारयों के इलाज में मदद करते हैं। यह सांस की नलियों को चौड़ा करता है और फेफड़ों की सूजन को कम करता है। केसर ब्‍लड प्रेशर और कोलेस्‍ट्रॉल के लेवल को कम करने की क्षमता रखता है। दूध में रोज केसर लेने से सेहत बेहतर होती है।

​बीमारियों को दूर करता है केसर

केसर जुकाम और खांसी को दूर करने वाला है। यह कफ निस्‍सारक के रूप में काम करता है और जुकाम और खांसी के दौरान होने वाली सूजन को कम करता है। केसर चेहरे पर निखार लाने के लिए भी जाना जाता है। दूध के साथ केसर मिलाकर स्किन टोनर बना सकती हैं। केसर में एंटी-ऑक्‍सीडेंट गुण भी होते हैं जो उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा कर देते हैं।

Post a Comment

From around the web