दूल्हा-दुल्हन करते है यहां शादी से पहले ये घिनौना काम, 'बेजुबानों' के साथ होती है ऐसी दरिंदगी

 
दूल्हा-दुल्हन करते है यहां शादी से पहले ये घिनौना काम, 'बेजुबानों' के साथ होती है ऐसी दरिंदगी

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। भारत में शादी के दौरान कई तरह की रस्में निभाई जाती हैं। लेकिन इन संस्कारों का अपना सौंदर्य है। लेकिन कुछ जगहों पर रिवाज के नाम पर गूंगे की जान तक ले ली जाती है. हम बात कर रहे हैं मंगोलिया की। यहां शादी का फैसला करने से पहले दूल्हा-दुल्हन को खून से लथपथ परंपरा का पालन करना होता है। यह परंपरा यहां सदियों से चली आ रही है।

मंगोलिया में शादी की तारीख तय करने के लिए एक बेजुबान की जान तक ले लेनी पड़ती है।

यहां शादी की तारीख तब तय होती है जब दूल्हा-दुल्हन या परिवार के लोग एक-दूसरे को चुनते हैं। शादी की तारीख तय करने से पहले दूल्हा-दुल्हन के सामने चूजा यानी मुर्गा लाया जाता है। पीछे से आ रहे एक दंपत्ति ने चाकू लेकर उसे मार डाला। फिर उसका कलेजा निकाल दें। यदि चूजे का लिवर स्वस्थ्य अवस्था में है तो विवाह की तिथि निश्चित की जाती है। लेकिन जब यह पाया जाता है कि बछड़े का लिवर खराब गुणवत्ता का है या बीमारी से पीड़ित है, तो यह प्रक्रिया तब तक दोहराई जाती है जब तक कि एक स्वस्थ लिवर नहीं मिल जाता। इसके बाद ही शादी की तारीख तय होगी।

दक्षिण कोरिया में शादी से पहले दूल्हे को पीटा जाता है

दूल्हा-दुल्हन करते है यहां शादी से पहले ये घिनौना काम, 'बेजुबानों' के साथ होती है ऐसी दरिंदगी

वहीं, दक्षिण कोरिया में शादी से पहले दूल्हे को मारने का रिवाज है। यहां दूल्हे को दुल्हन को लेने जाने से पहले एक रस्म पूरी करनी होती है। दूल्हे के घरवालों ने उसके पैरों से जूते उतार दिए और फिर उसे लाठियों से पीटा। कुछ जगहों पर सूखी मछलियों को पैरों में मार दिया जाता है। इससे पहले दूल्हे को राखी बांधी जाती है। फिर यह रस्म अदा की जाती है। इससे वर के बल और चरित्र की परीक्षा होती है। हालांकि, इस दर्दनाक प्रथा का पालन शायद ही कभी किया जाता है। लोग अब इसे एक शगल के रूप में लेते हैं और सिर्फ नाम के लिए इस प्रथा को करते हैं।

यहां पिता ने बेटी को जाने से पहले उस पर थूका

केन्या में एक पिता को एक दुल्हन की विदा के समय बहुत ही अप्रिय काम करना पड़ता है। पति के साथ जाने से पहले पिता को दूल्हे पर थूकना पड़ता है। वे उसके सिर और छाती पर थूकते हैं। कुछ संस्कृतियों के लिए यह एक अजीब, आक्रामक प्रथा होगी लेकिन मासाई संस्कृति में थूकने को सौभाग्य और भाग्य के प्रतीक के रूप में देखा जाता है। मसाई आदिवासी बड़ों से हाथ मिलाते हैं और सम्मान के संकेत के रूप में उनके हाथों पर थूकते हैं। इतना ही नहीं नवजात के सुख-दुख को दूर करने के लिए उस पर थूकने की भी परंपरा है।

Post a Comment

From around the web