'दूल्हों के बाजार' के लिए फेमस है ये जगह,  लड़की चुनती है 1-1 चीज देखकरअपना जीवनसाथी

 
यहां लगता है 'दूल्हों का बाजार', 1-1 चीज देखकर लड़की चुनती है अपना जीवनसाथी

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। अक्सर हम देखते हैं कि एक लड़का किसी लड़की को पूरे परिवार के साथ देखने जाता है और लड़की की ऊपर से नीचे तक परीक्षा होती है। इसके बाद लड़का शादी के लिए राजी हो जाता है। लेकिन एक जगह ऐसी भी है जहां दूल्हा-दुल्हन का मेला लगता है और यहां लड़की अपना दूल्हा चुनती है न कि दुल्हन। वह भी पूरी जांच और देखने के बाद। यह परंपरा 700 से अधिक वर्षों से चली आ रही है। आइए आपको बताते हैं कहां लगते हैं दुल्हन मेले...

यहाँ है दुल्हन बाजार
बिहार के मिथिलांचल इलाके में हर साल दुल्हन बाजार लगता है. इसे सोरथ सभा कहते हैं। इसकी शुरुआत 1310 ई. यहां हजारों लड़के आते हैं और लोग अपनी बेटियों को भी यहां लाते हैं। लड़कियां लड़कों को देखती हैं। यहां तक ​​कि परिवार वालों को भी लड़के की पूरी जानकारी है। इतना ही नहीं, इसके बाद दोनों मिलते हैं, बर्थ सर्टिफिकेट मिल जाता है। इसके बाद एक योग्य वर का चयन किया जाता है और फिर दोनों की शादी हो जाती है।

यहां लगता है 'दूल्हों का बाजार', 1-1 चीज देखकर लड़की चुनती है अपना जीवनसाथी

इस प्रकार शुरू हुआ सौराठो
कहा जाता है कि 700 साल पहले कर्नाटक वंश के राजा हरिसिंह देव ने सोरथ की शुरुआत की थी। इसके पीछे उनका मकसद था कि शादी एक ही गोत्र में न हो बल्कि दूल्हा-दुल्हन का गोत्र अलग-अलग हो। इस सभा में सात पीढि़यों से रक्त संबंध और रक्त समूह पाए जाने पर विवाह की अनुमति नहीं है। यहां बिना दहेज के, बिना किसी झंझट के लड़कियां अपनी पसंद के लड़के चुनकर शादी कर लेती हैं। यह प्रथा अभी भी मिथिलांचल में बहुत लोकप्रिय है और हर साल आयोजित की जाती है जो हजारों युवाओं को आकर्षित करती है।

सौरथ क्यों शुरू किया गया था?
इस मेले को शुरू करने का कारण यह था कि लड़की के परिवार को शादी के लिए परेशानी का सामना न करना पड़े। यहां हर वर्ग के लोग अपनी बेटी के लिए अपनी पसंद का लड़का ढूंढ़ने आते हैं और इसके लिए न तो दहेज दिया जाता है और न ही शादी पर लाखों रुपये खर्च किए जाते हैं। इस मुलाकात में आने से लड़की और उसके परिवार को लड़के से प्यार हो जाता है और उसके बाद उनके आपसी परिचित विलीन हो जाते हैं और वे दोनों खुशी-खुशी शादी कर लेते हैं।

Post a Comment

From around the web