माता-पिता भूलकर भी अपने बच्चो से न कहे यह बातें, बच्चो के दिमाग पर असर पड़ता है 

 
चाइल्ड

जब किसी कपल के घर में बच्चे का आगमन होता है, तो ये उनके जीवन का सबसे खुशहाल पल होता है। कपल माता-पिता बनता है, लेकिन इसके साथ ही माता-पिता की जिम्मेदारी बढ़ जाती है। ऐसे में कई माता-पिता अपने बच्चों को अच्छी राह दिखाने के लिए चीजों को प्यार से समझाते हैं, तो कई माता-पिता अपने बच्चों पर हर वक्त सिर्फ गुस्सा ही करते रहते हैं। यहां तक कि माता-पिता की इस डांट का बच्चों पर कुछ फर्क भी नहीं पड़ता, क्योंकि उन्हें इसकी आदत हो जाती है। इसलिए बच्चों को समझाने के लिए हमेशा प्यार का तरीका अपनाना चाहिए। कई बार जब माता-पिता बच्चे को गुस्से में ये कह देते हैं कि तुम घर छोड़कर चले जाओ। हालांकि, हो सकता है कि माता-पिता के कहने का वो मतलब नहीं था, लेकिन बच्चे इन चीजों को बड़े ही अलग तरीके से लेते हैं। साथ ही ये बातें उनके मन में बैठ जाती है और आगे चलकर वे इस तरह के कदम उठा भी सकते हैं। 

बेबी

अमूमन ये देखा जाता है कि माता-पिता अपने बच्चे की तुलना पड़ोसियों या अपने रिश्तेदारों के बच्चों से करते हैं। लेकिन आपको ये समझना होगा कि हर बच्चा एक-दूसरे से पूरी तरह अलग होता है, उसके काम करने का तरीका, चीजों को समझने का तरीका, पढ़ने का तरीका आदि सबकुछ अलग होता है। कई माता-पिता अपने बच्चे को ये ताना मारते हैं कि तुम काफी स्लो हो और तुम हर काम को बड़े धीरे-धीरे करके करते हो। लेकिन आपको समझना होगा कि एक व्यस्क और बच्चे की क्षमता और काम करने का तरीका पूरी तरह अलग होता है। इसलिए अपने बच्चे को ऐसा नहीं कहना चाहिए, हो सकता है

Post a Comment

From around the web