भारत के इस अनोखे गांव में होती है आम की 102 किस्म की खेती, एक बार जरूर घूमकर आये ‘मैंगो हेरिटेज विलेज’

 
भारत के इस अनोखे गांव में होती है आम की 102 किस्म की खेती, एक बार जरूर घूमकर आये ‘मैंगो हेरिटेज विलेज’

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। आम के प्रति भारतीयों का प्यार किसी से छुपा नहीं है। लोग पूरे साल गर्मियों का इंतजार करते हैं, क्योंकि इस मौसम में दशहरी, चौसा, लंगड़ा, टाटा परी जैसे आमों की कई किस्मों का स्वाद लिया जा सकता है। वैसे तो हर राज्य में आम की एक अनोखी किस्म होती है। हाल ही में एक ऐसा गांव मिला है जहां आम की 100 से भी ज्यादा किस्में पाई जाती हैं। जी हां, कन्नपुरम के एक छोटे से गांव चुंडा कुरुवक्कावु में आम प्रेमियों के एक समूह नटुमनजोथिल ने आम की विभिन्न किस्मों की पहचान करने के लिए एक अनूठा प्रयास शुरू किया। आम की कई देशी किस्में हैं, जो आकार और स्वाद में बहुत भिन्न हैं। राज्य सरकार ने इस गांव को मैंगो हेरिटेज विलेज घोषित किया है। यह भारत का पहला गाँव है, जिसे आमों की भूमि के रूप में जाना जाता है।

20 परिवार आम की खेती करते हैं

कुरुवाकावु में 20 स्थानीय परिवारों द्वारा आम की 102 किस्मों की खेती की जाती है। इन किस्मों को 20 घरों के 372 पेड़ों पर उगाया जाता है। यहां आपको नारियल जितना बड़ा और आंवला जितना छोटा आम मिलेगा। कुरुवाकावु में उगाई जाने वाली कुछ प्रसिद्ध आम की किस्में कन्नपुरम आम, थेंगा आम, पुलियन आम, कुदाकाची आम हैं।

शायजू मेचाठी ने शुरू की यात्रा

आम की किस्मों को संरक्षित करने की यात्रा लगभग छह साल पहले पेशे से सिविल पुलिस अधिकारी शायजू मेचा के साथ शुरू हुई थी। उन्होंने अपने पड़ोसियों के साथ मिलकर हर घर में हर पेड़ को उसके प्रकारों के आधार पर साइनबोर्ड से चिह्नित करना शुरू कर दिया। प्रक्रिया तब शुरू हुई जब एक जमींदार ने 200 साल पुराने वेलाथन के पेड़ को काट दिया। आपको बता दें कि वेलाथान आम बहुत मीठे होते हैं और सभी ग्रामीणों के दिलों में एक खास जगह रखते हैं। उसने इस पेड़ को फिर से उगाने की सोची।

आमों के नाम

शायजू ने कई साक्षात्कारों में कहा है कि उनका नाम कुछ आमों को चखने के बाद रखा गया था। फलों के नाम अनोखे और स्टाइलिश होते हैं। उनमें से एक का नाम 'कुल निरायण' है, क्योंकि यह साल भर फलता-फूलता है। दूसरा 'ठेंगा मंगा' है क्योंकि यह नारियल के आकार का होता है।

एक वार्षिक आम महोत्सव आयोजित किया जाता है

स्थानीय रूप से उगाए गए आमों की व्यापक उपलब्धता के कारण, गाँव ने मई के पहले रविवार को एक वार्षिक आम उत्सव का आयोजन शुरू कर दिया है। यहां इन फलों की स्वदेशी प्रजातियों का उपयोग चटनी से लेकर अचार और करी तक विभिन्न व्यंजन तैयार करने के लिए किया जाता है।

मैंगो थीम हेरिटेज वॉक प्लान

कन्नपुरम की आम जैव विविधता का लाभ उठाने के लिए, ग्रामीणों ने इसकी किस्मों और इसके स्वाद के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए आम-थीम वाले हेरिटेज वॉक का भी आयोजन किया। यह न केवल क्षेत्र की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देगा बल्कि हमारे देश में इस फल की समृद्ध विरासत को भी जीवित रखेगा।

तो अगर आप कहीं जाना चाहते हैं तो इस आम गांव में एक बार जरूर जाएं। आम की इतनी वैरायटी देखकर आप जरूर खुश हो जाएंगे। साथ ही आप यहां बेहतरीन खट्टे मीठे आमों का स्वाद भी ले सकते हैं।

Post a Comment

From around the web