‘Queen Elizabeth’ भी आई थी किसी जमाने में भारत यात्रा पर, दंग रह गई थी ताजमहल की चकाचौंध देख

 
‘Queen Elizabeth’ भी आई थी किसी जमाने में भारत यात्रा पर, दंग रह गई थी ताजमहल की चकाचौंध देख

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। भारत एक ऐसी खूबसूरत जगह है, जहां हर कोई घूमने के लिए मर रहा है, चाहे हम स्थानीय हों या विदेशी, हर कोई अपने देश भारत आने का सपना देखता है। गर्व से, सूची में महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का नाम भी शामिल है, जो 1952 में सिंहासन पर बैठने और आधिकारिक तौर पर रानी बनने के बाद तीन बार भारत आई थीं। 1947 में जब भारत को ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन से स्वतंत्रता मिली, तो वह कुछ साल बाद पहली बार देश का दौरा करने वाले पहले ब्रिटिश सम्राट थे। 1961 में वे पहली बार भारत आए। इसके बाद 1983 में दूसरी यात्रा और 1997 में तीसरी यात्रा की गई। देश की इन तीन यात्राओं के दौरान उनका गर्मजोशी से स्वागत किया गया।

1961 में ताजमहल और राजघाट यात्रा
1961 में महारानी एलिजाबेथ पहली बार प्रिंस फिलिप के साथ भारत आई थीं। शाही जोड़े ने देश के कुछ ऐतिहासिक स्थानों का दौरा किया। इतना ही नहीं महारानी महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देने दिल्ली के राजघाट गईं, उन्होंने दुनिया के सातवें अजूबे ताजमहल का भी दर्शन किया। जिस तरह हम ताजमहल की खूबसूरती की तारीफ करते नहीं थकते, उसी तरह एलिजाबेथ ने भी इस इमारत की तारीफ की।

1961 में एलिजाबेथ ने और कहाँ यात्रा की?
उन्होंने चेन्नई (बाद में मद्रास), मुंबई (बाद में बॉम्बे), कोलकाता (बाद में कलकत्ता), वाराणसी (बाद में बनारस), उदयपुर, जयपुर और बैंगलोर (बाद में बैंगलोर) जैसे कई राज्यों का दौरा किया। यात्रा के दौरान उन्हें गणतंत्र दिवस समारोह में विशेष अतिथि के रूप में भी आमंत्रित किया गया था। इतना ही नहीं जयपुर के महाराजा भी उसे शिकार के लिए ले गए।

उनकी दूसरी भारत यात्रा 1983 में हुई थी

महारानी एलिजाबेथ और प्रिंस फिलिप को ज्ञानी जैल सिंह ने 1983 में दूसरी बार भारत आने के लिए आमंत्रित किया था। इस दौरान वे राष्ट्रपति भवन विंग में रहे। देश के अपने 9 दिवसीय शाही दौरे के दौरान, उन्होंने मदर टेरेसा को मानद ऑर्डर ऑफ मेरिट भी प्रदान किया। यह कार्यक्रम नई दिल्ली के प्रेसिडेंशियल पैलेस में आयोजित किया गया था। महारानी एलिजाबेथ ने नई दिल्ली के हैदराबाद हाउस में इंदिरा गांधी से भी मुलाकात की। उन्होंने अपनी यात्रा के दौरान राष्ट्रीय राजधानी में राज घाट का भी दौरा किया।

1997 में महारानी एलिजाबेथ तीसरी बार भारत आईं

आखिरी बार शाही जोड़ा 1997 में भारत आया था। फिर 1997 में भारत ने औपनिवेशिक शासन से आजादी के 50 साल पूरे किए। अपनी तीसरी यात्रा के दौरान, रानी ने पंजाब के अमृतसर में स्वर्ण मंदिर का दौरा किया। साथ ही इस दौरे के दौरान उन्होंने भारतीय फिल्मों के सेट पर भी पैर रखा। आपको बता दें कि इस दौरे में उन्होंने कमल हासन द्वारा निर्मित मरुधनायगम के सेट का भी दौरा किया। उन्होंने चेन्नई में एमजीआर फिल्म सिटी का भी दौरा किया और वहां करीब 20 मिनट तक रहे।

Post a Comment

From around the web