आधी रात को यहां पैदा हुए थे श्री कृष्ण, अब तक तीन बार टूटा और चार बन चुका है मंदिर, दिलचस्प है कहानी

 
आधी रात को यहां पैदा हुए थे श्री कृष्ण, अब तक तीन बार टूटा और चार बन चुका है मंदिर, दिलचस्प है कहानी

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।।  इस खूबसूरत जगह का नाम सुनते ही हमारे दिमाग में भगवान श्री कृष्ण का ख्याल आता है। यमुना के तट पर बसा यह शहर अपनी कई किंवदंतियों के लिए बहुत प्रसिद्ध है। कृष्ण जन्माष्टमी के त्योहार पर आप शहर के लगभग हर जगह से भक्तों को यहां पूजा करते देख सकते हैं। अगर आप भी श्रीकृष्ण के कुछ रहस्यों और इतिहास के बारे में जानना चाहते हैं तो इस लेख को अवश्य पढ़ें। आज हम आपको भगवान कृष्ण से जुड़ी कुछ अनोखी बातें बताने जा रहे हैं।

कृष्ण का जन्म स्थान


पौराणिक कथाओं का कहना है कि जब भगवान कृष्ण का जन्म हुआ था, उस समय कार घर के दरवाजे खुले थे और उस समय सैनिक सो रहे थे। लेकिन क्या आप जानते हैं कि जहां कृष्ण का जन्म हुआ था वहां एक खूबसूरत मंदिर स्थित है। इतना ही नहीं, कार हाउस पर श्रीकृष्ण की मूर्ति स्थापित है।

कृष्ण के प्रपौत्र बजरानाभ ने बनवाया पहला मंदिर
ऐसा माना जाता है कि भगवान कृष्ण के परपोते बजरानाभे ने जेल के पास अपने देवता की याद में पहला मंदिर बनवाया था। आम लोगों का मानना ​​है कि यहां मिले शिलालेख ब्राह्मी लिपि में लिखे गए हैं। इससे पता चलता है कि षोडस के शासनकाल में वासु नाम के व्यक्ति ने श्रीकृष्ण के जन्म स्थान पर एक मंदिर, एक गेटहाउस और एक वैदिक मंदिर बनवाया था।

दूसरा मंदिर विक्रमादित्य द्वारा बनवाया गया था
ऐसा माना जाता है कि दूसरा मंदिर सम्राट विक्रमादित्य के शासनकाल के दौरान 400 ईस्वी में बनाया गया था। यह बहुत ही सुंदर मंदिर था। उस दौरान इस मंदिर की स्थापना संस्कृति और कला रूप को प्रदर्शित करने के लिए की गई थी। उस समय यहां हिंदू धर्म के साथ बौद्ध और जैन धर्म भी फला-फूला।

तीसरा मंदिर विजयपाल देवी के समय में बनाया गया था


खुदाई में मिले संस्कृत शिलालेखों को देखने पर पता चलता है कि इस मंदिर का निर्माण तीसरी बार 1150 ई. में राजा विजयपाल देव के शासनकाल में जाज नामक व्यक्ति ने करवाया था। उसने एक बहुत ही शानदार मंदिर बनवाया। लेकिन इस मंदिर को 16वीं शताब्दी की शुरुआत में सिकंदर लोदी के शासन के दौरान ध्वस्त कर दिया गया था।

मंदिर का निर्माण चौथी बार जहांगीर के शासनकाल में हुआ था
करीब 125 साल बाद जहांगीर के शासनकाल में ओरछा के वीर सिंह वीर सिंह देव बुंदेला ने चौथे दिन इस स्थान पर एक मंदिर बनवाया। कहा जाता है कि इस मंदिर की भव्यता को देखकर औरंगजेब ने 1669 में इसे ध्वस्त कर दिया और इसके एक हिस्से पर ईदगाह का निर्माण कराया। यहां कई अवशेषों से पता चलता है कि मंदिर एक दीवार से घिरा हुआ था।

Post a Comment

From around the web