गर्मीयों में छुट्टीयों में ​लीजिए भाग दौड़ भरी जिंदगी से ब्रेक और घूम आइए चंबा, खुबसूरती ऐसी की जीत ले किसी का भी दिल

 
गर्मीयों में छुट्टीयों में ​लीजिए भाग दौड़ भरी जिंदगी से ब्रेक और घूम आइए चंबा, खुबसूरती ऐसी की जीत ले किसी का भी दिल

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। चंबा उत्तराखंड का एक बेहद खूबसूरत गांव है, जो मसूरी से कुछ ही दूरी पर है। चंबा भी एक लोकप्रिय पर्यटक आकर्षण है, जिसके कारण लोगों के बीच इस जगह पर जाने की होड़ मची हुई है। यह शांत स्थान उत्तराखंड के टिहरी गढ़वाल जिले में समुद्र तल से 1600 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। देवदार के पेड़ों से घिरा चंबा पर्यटकों के लिए जन्नत साबित होता है। अगर आप लंबे वीकेंड के लिए कहीं जाने की सोच रहे हैं और इस भीषण गर्मी से निजात पाना चाहते हैं तो कुछ दिनों के लिए चंबा की सैर पर जा सकते हैं। चंबा के साथ नई टिहरी और धनोल्टी भी जाया जा सकता है।

चंबा में टिहरी बांध
टिहरी झील चंबा से थोड़ी दूरी पर स्थित है, जहां आप कार से पहुंच सकते हैं। यहां पहुंचने में आपको लगभग 20 मिनट का समय लगेगा। यह एक कृत्रिम बांध है, जिसे टिहरी बांध के निर्माण के दौरान जलाशय को भरने के लिए भागीर से नदी के पानी को मोड़कर बनाया गया है। यह 1,700 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है, जिसे आपको अपनी चंबा यात्रा पर अवश्य देखना चाहिए। आप टिहरी झील में बोटिंग जैसी गतिविधियां भी कर सकते हैं। दिल्ली और एनसीआर से निकटता के कारण, यह अद्भुत जगह सप्ताहांत में छुट्टी के लिए एकदम सही है।

गर्मीयों में छुट्टीयों में ​लीजिए भाग दौड़ भरी जिंदगी से ब्रेक और घूम आइए चंबा, खुबसूरती ऐसी की जीत ले किसी का भी दिल

सुरकंडा देवी मंदिर
शिखर से 10,000 फीट की ऊंचाई पर स्थित मंदिर से इस जगह का खूबसूरत नजारा देखकर आप मंत्रमुग्ध हो जाएंगे। अगर आप नास्तिक हैं तो भी यह जगह अद्भुत नजारों का हिस्सा हो सकती है। आप शहर की भागदौड़ से दूर थोड़ी देर के लिए शांति से बैठ सकते हैं। सुरकंडा देवी मंदिर चंबा से लगभग 24 किमी दूर कडुखल में एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर देवी सती को समर्पित है, जहां 2 किलोमीटर के साधारण रास्ते से पहुंचा जा सकता है। इस मंदिर में साल भर बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं।

गर्मीयों में छुट्टीयों में ​लीजिए भाग दौड़ भरी जिंदगी से ब्रेक और घूम आइए चंबा, खुबसूरती ऐसी की जीत ले किसी का भी दिल

गब्बर सिंह नेगी स्मारक
ठाकुर गब्बर सिंह 1913 में राइफलमैन के रूप में गढ़वाल राइफल्स में शामिल हुए। गब्बर सिंह और उनकी बटालियन ने प्रथम विश्व युद्ध के दौरान जर्मनी के फ्लैंडर्स क्षेत्र पर विजय प्राप्त की। गब्बर सिंह की मृत्यु के बाद, उन्हें इंग्लैंड के सर्वोच्च वीरता पुरस्कार विक्टोरिया क्रॉस से सम्मानित किया गया। 1925 में चंबा में उनके सम्मान में एक स्मारक बनाया गया था। हर साल 21 अप्रैल को गढ़वाल रेजीमेंट इस वीर सैनिक को श्रद्धांजलि देती है।

चंबा के आसपास के दर्शनीय स्थल
ऋषिकेश - दुनिया की योग राजधानी के रूप में जाना जाता है, ऋषिकेश भारत के सबसे प्रसिद्ध धार्मिक स्थानों में से एक है, जहाँ गंगा आरती सबसे लोकप्रिय है। चंबा से महज 60 किमी दूर ऋषिकेश कई मिथकों से जुड़ा है। लक्ष्मण जुला और नीलकंठ महादेव मंदिर जैसे प्रसिद्ध तीर्थ स्थल ऋषिकेश में स्थित हैं।

गर्मीयों में छुट्टीयों में ​लीजिए भाग दौड़ भरी जिंदगी से ब्रेक और घूम आइए चंबा, खुबसूरती ऐसी की जीत ले किसी का भी दिल

मसूरी - चंबा से सिर्फ 55 किमी दूर, यह भारत के सबसे लोकप्रिय और घने हिल स्टेशनों में से एक है। शहर घाटी के शानदार दृश्य प्रस्तुत करता है, जहाँ आप दो से तीन दिन की यात्रा की योजना बना सकते हैं।

कैसे पहुंचें चंबा
हवाई मार्ग से: चंबा का निकटतम हवाई अड्डा जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है, जो 75 किमी दूर है। हवाई अड्डे से चंबा के लिए टैक्सी आसानी से उपलब्ध है।

ट्रेन द्वारा: चंबा से 60 किमी दूर, ऋषिकेश चंबा का निकटतम रेलवे स्टेशन है। वहां से बस और कैब द्वारा आसानी से चंबा पहुंचा जा सकता है।

सड़क मार्ग द्वारा: चंबा मसूरी, देहरादून, ऋषिकेश, दिल्ली, हरिद्वार और अन्य सहित प्रमुख पर्यटन स्थलों और शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। चंबा के लिए टैक्सी सेवा भी उपलब्ध है।

Post a Comment

From around the web