ये है भारत का सबसे रहस्यमयी शिव मंदिर, ​जो दिन में सिर्फ दो बार दर्शन देकर समां जाता है समुद्र की गोद में

 
ये है भारत का सबसे रहस्यमयी शिव मंदिर, ​जो दिन में सिर्फ दो बार दर्शन देकर समां जाता है समुद्र की गोद में

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।।  भगवान शिव के ऐसे मंदिर में आजतक आप गए होंगे जहां उनकी एक मूर्ती स्थापित है और सच्चे दिल से श्रद्धालु उनकी पूजा कर रहे होते हैं। कभी ऐसा मंदिर लेकिन आपने देखा है, जहां पूरे दिन में केवल दो बार भगवान शिव दर्शन देने के लिए आते हैं और फिर जलमग्न पूरा मंदिर हो जाता है? इस मंदिर के बारे में शायद आपको पता भी नहीं होगा, तो आज हम आपको इस मंदिर से चलिए रूबरू कराते हैं।

गुजरात की राजधानी गांधीनगर से लगभग 175 किमी दूर जंबूसर के कवि कंबोई गांव में स्तम्भेश्वर महादेव मंदिर मौजूद है। आप गांधीनगर से इस जगह तक अगर ट्रैफिक जाम न मिले तो 4 घंटे में ड्राइव करके पहुंच सकते हैं। इस मंदिर की महिमा देखने के लिए आपको यहां सुबह से लेकर रात तक रुकना पड़ेगा। 150 साल पुराना मंदिर है, जो अरब सागर और खंभात की खाड़ी से घिरा हुआ है। 

मंदिर के पीछे की कहानी 
वरदान ये था कि उस असुर को शिव पुत्र के अलावा और कोई नहीं मार सकता था और पुत्र की आयु भी 6 दिन की ही होनी चाहिए। शिवपुराण के अनुसार, ताड़कासुर नाम के असुर ने भगवान शिव को अपनी तपस्या से खुश कर दिया था, इसके बदले में शिव ने उसे मन चाहा वरदान दिया था। वरदान मिलने के बाद, ताड़कासुर ने हर तरफ लोगों को परेशान करना और उन्हें मारना शुरू कर दिया। उनकी प्रार्थना सुनने के बाद श्वेत पर्वत कुंड से 6 दिन के कार्तिकेय ने जन्म लिया। असुर का वध कार्तिकेय ने कर तो दिया, लेकिन शिव भक्त की जानकारी मिलने के बाद उन्हें बेहद दुख पहुंचा। ये सब देखकर देवताओं और ऋषि मुनियों ने शिव जी से उसका वध करने की प्रार्थना की। 

मंदिर बनवाने की ये थी वजह 
विष्णु भगवान ने उन्हें सुझाव दिया कि जहां उन्होंने असुर का वध किया है, वहां वो शिवलिंग की स्थापना करें। कार्तिकेय को जब इस बात का एहसास हुआ, तो भगवान विष्णु ने उन्हें प्रायश्चित करने का मौका दिया। इस तरह इस मंदिर को बाद में स्तंभेश्वर मंदिर के नाम से जाना जाने लगा।

ये है भारत का सबसे रहस्यमयी मंदिर, ​जो दिन में सिर्फ दो बार देता है दर्शन फिर हो जाता है समुद्र की गोद में गायब

स्तम्भेश्वर महादेव क्यों डूब जाता है मंदिर में दो बार?

इसके पीछे का कारण प्राकृतिक है, दरअसल पूरे दिन में समुद्र का स्तर इतना बढ़ जाता है कि मंदिर पूरी तरह से डूब जाता है और फिर पानी का स्तर कम होने के बाद ये मंदिर फिर से दिखाई देने लगता है। भले ही भारत में समुद्र के अंदर कई तीर्थस्थल हैं, लेकिन उनमें से ऐसा कोई मंदिर नहीं है जो पानी में पूरी तरह से डूब जाता है। ऐसा सुबह शाम दो बार होता है और लोगों द्वारा इसे शिव का अभिषेक माना जाता है। लेकिन स्तम्भेश्वर महादेव मंदिर एक ऐसा मंदिर है, जो दिन में दो बार समुद्र में समा जाता है और इसी वजह से ये मंदिर इतना अनोखा है। 

कैसे पहुंचें कवि कम्बोई 
कवि कंबोई वडोदरा, भरूच और भावनगर जैसे शहरों से सड़क मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। वडोदरा से स्तम्भेश्वर महादेव मंदिर के लिए आप प्राइवेट टैक्सी भी ले सकते हैं। कवि कंबोई वडोदरा से लगभग 78 किमी दूर है। आप ट्रेन और बस से वडोदरा पहुँच सकते हैं। वडोदरा रेलवे स्टेशन कवि कंबोई के सबसे नजदीक है। 

Post a Comment

From around the web