जयपुर का ये म्यूजियम है 140 साल से भी ज्यादा पुराना, विदेशी राजा के आने पर इसे महाराजा रामसिंह ने बनवाया था 

 
जयपुर का ये म्यूजियम है 140 साल से भी ज्यादा पुराना, विदेशी राजा के आने पर इसे महाराजा रामसिंह ने बनवाया था 

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। वे कहते हैं कि पुराना सोना है, और आप इस बात से सहमत होंगे कि पुरानी चीजें हमेशा लोगों की आंखों में चमत्कार करती हैं। ऐसी ही एक पुरानी जगह जयपुर में है, जो आज भी टूरिस्ट लिस्ट में सबसे ऊपर है। जी हां, हम बात कर रहे हैं जयपुर के सबसे बड़े और सबसे पुराने म्यूजियम अल्बर्ट हॉल की, जिसे महाराजा राम सिंह ने बनवाया था। आपको बता दें कि इस संग्रहालय को 1887 में जनता के लिए खोला गया था, 135 साल पुराना यह संग्रहालय राम निवास गार्डन में स्थित है। यदि आप शहर का दौरा कर रहे हैं, तो यह संग्रहालय भी अवश्य देखें। आइए आपको बताते हैं इस म्यूजियम के बारे में।

यह संग्रहालय क्यों बनाया गया था?
हवा महल से 10 मिनट की दूरी पर स्थित इस संग्रहालय को सरकारी केंद्रीय संग्रहालय के रूप में भी जाना जाता है। अल्बर्ट हॉल की स्थापना वर्ष 1876 में 6 फरवरी को प्रिंस ऑफ वेल्स, अल्बर्ट एडवर्ड की जयपुर यात्रा के दौरान की गई थी। उन्हीं के नाम पर इस इमारत का नाम रखा गया है। लेकिन इस हॉल का इस्तेमाल कैसे किया जाए, इसे लेकर असमंजस बना रहा। महाराजा सवाई राम सिंह शुरू में संग्रहालय भवन को टाउन हॉल बनाना चाहते थे। कुछ ने इसे सांस्कृतिक या शैक्षिक उपयोग के लिए रखने का सुझाव दिया।

जयपुर का ये म्यूजियम है 140 साल से भी ज्यादा पुराना, विदेशी राजा के आने पर इसे महाराजा रामसिंह ने बनवाया था 

लेकिन डॉ. थॉमस होबिन हैंडले ने सुझाव दिया कि यहां स्थानीय कारीगरों को उनके शिल्प का प्रदर्शन कर प्रोत्साहित किया जाए। जयपुर के तत्कालीन महाराजा महाराजा सवाई माधो सिंह द्वितीय को उनका यह विचार पसंद आया और उन्होंने 1880 में जयपुर के स्थानीय कारीगरों की कलाकृतियों को प्रदर्शित करने के लिए एक संग्रहालय बनाने का फैसला किया। संग्रहालय अंततः 1887 में जनता के लिए खोला गया था। इसलिए महंगे हो रहे हैं मनाली और शिमला के होटल, बुकिंग से पहले एक बार जान लें

संग्रहालय की सुंदर वास्तुकला

संग्रहालय की शानदार वास्तुकला आपको विस्मय में छोड़ देगी। इंडो-सरैसेनिक शैली में डिज़ाइन किया गया, संग्रहालय को महाराजा राम सिंह के शासनकाल के दौरान सैमुअल स्विंटन जैकब द्वारा डिज़ाइन किया गया था। संग्रहालय में अब जयपुर कला, पेंटिंग्स, कलाकृतियों, आभूषणों, कालीनों, धातु, पत्थर और हाथी दांत की मूर्तियों के कुछ बेहतरीन काम हैं। अब मथुरा से वृंदावन कार से जाने की जरूरत नहीं, जल्द शुरू होगी 'क्रूज' सेवा

जयपुर का ये म्यूजियम है 140 साल से भी ज्यादा पुराना, विदेशी राजा के आने पर इसे महाराजा रामसिंह ने बनवाया था 

आप यहां द ममी भी देख सकते हैं
मुद्राशास्त्र में रुचि रखने वालों के लिए, आपको अल्बर्ट हॉल संग्रहालय में सिक्कों का संग्रह आकर्षक से कम नहीं मिलेगा। ये सिक्के गुप्त, कुषाण, दिल्ली सल्तनत, मुगल और ब्रिटिश काल के हैं। क्या आप जानते हैं कि अल्बर्ट हॉल संग्रहालय भी भारत के उन छह स्थानों में से एक है जहाँ आप मिस्र की ममी देख सकते हैं? ये छह स्थल जयपुर में अल्बर्ट हॉल संग्रहालय, कोलकाता में भारतीय संग्रहालय, हैदराबाद में वाईएस राजशेखर रेड्डी राज्य संग्रहालय, छत्रपति शिवाजी महाराज वास्तु संग्रहालय, मुंबई, राज्य संग्रहालय, लखनऊ और बड़ौदा संग्रहालय और पिक्चर गैलरी, वडोदरा हैं। यहाँ एक टूटू ममी है, जो मिस्र में एक पुरोहित परिवार की महिला सदस्य है। ताजमहल ही नहीं भारत की ये 6 मशहूर इमारतें भी महिलाओं की याद में बनी हैं

अल्बर्ट हॉल संग्रहालय टिकट

जयपुर का ये म्यूजियम है 140 साल से भी ज्यादा पुराना, विदेशी राजा के आने पर इसे महाराजा रामसिंह ने बनवाया था 

अल्बर्ट हॉल संग्रहालय सप्ताह के सभी दिनों में सुबह 9:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक और शाम 7:00 बजे से रात 10:00 बजे तक खुला रहता है।

पर्यटकों के लिए टिकट
भारतीय पर्यटक: रुपये। 40
विदेशी यात्री: 300 रुपये
ऊपर बताए गए टिकट आपको कार्यक्रम स्थल पर मिल जाएंगे। घूमने की जगह तो आपने देख ही ली होगी, अब 1800 रुपए में ठहरने के लिए सरकारी गेस्ट हाउस बुक करें।

अल्बर्ट तक कैसे पहुंचे
अल्बर्ट हॉल जयपुर के रामनिवास बाग में अजमेरी गेट के पास स्थित है। हॉल तक पहुँचने का सबसे आसान तरीका ऑटोरिक्शा या टैक्सी लेना है। ऑटो चालकों से सावधान रहें, क्योंकि वे यहां विदेशियों से ज्यादा पैसे वसूलते हैं। जयपुर में कैब भी आसानी से बुक की जा सकती है।

Post a Comment

From around the web