शराब के शौकीनों के लिए जन्नत है भारत के ये मंदिर, भगवान भी खुश और आप भी

 
शराब के शौकीनों के लिए जन्नत है भारत के ये मंदिर, भगवान भी खुश और आप भी

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। देश के अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग देवी-देवताओं के मंदिर हैं। इनमें से कुछ मंदिरों में अजीबोगरीब चीजें भोग के रूप में चढ़ाई जाती हैं। दक्षिण से लेकर उत्तर भारत तक ऐसे कई मंदिर हैं जहां न केवल शराब, सिगरेट, गोलगप्पे, टॉफी, बिस्कुट, डोसा और चाउमीन भगवान को चढ़ाए जाते हैं, बल्कि बाटी चावल भी चढ़ाए जाते हैं। इतना ही नहीं भक्त इन वस्तुओं का प्रसाद के रूप में सेवन भी करते हैं। आइए जानते हैं ऐसे ही कुछ मंदिरों के बारे में।

काल भैरव को शराब का भोग लगाया जाता है

यूपी के वाराणसी में बाबा काल भैरव का एक प्राचीन मंदिर है। इस मंदिर में बाबा को शराब चढ़ाई जाती है। साथ ही इस प्रसाद को भक्तों में भी बांटा जाता है। यह परंपरा सैकड़ों साल से चली आ रही है। बाबा को यहां शराब के अलावा पेड़ा, मेवे आदि भी चढ़ाए जाते हैं।

शराब के शौकीनों के लिए जन्नत है भारत के ये मंदिर, भगवान भी खुश और आप भी

मेरठ के इस मंदिर में चढ़ाई जाती है सिगरेट

काशी के अलावा यूपी के मेरठ में भी धन्ना बाबा का मंदिर है। 400 साल पुराने इस मंदिर में प्रसाद के तौर पर सिगरेट चढ़ाई जाती है। यह मंदिर मेरठ के कंकरखेड़ा में स्थापित है। मान्यता है कि जो भी इस मंदिर में सिगरेट जलाकर कोई मनोकामना करता है, वह पूरी होती है। गिरहा समाज के इस मंदिर में दर्शन के लिए दूर-दूर से श्रद्धालु आते हैं।

काशी विश्वनाथ में पान प्रसाद चढ़ाया जाता है

अयोध्या के रामलला के अलावा काशी के बाबा विश्वनाथ को भी पान और गोलगप्पे का भोग लगाया जाता है. यहां सुबह की आरती में बाबा विश्वनाथ को सुपारी चढ़ाई जाती है। जब शाम की आरती में उन्हें गोलगप्पे का भोग लगाया जाता है।

शराब के शौकीनों के लिए जन्नत है भारत के ये मंदिर, भगवान भी खुश और आप भी

बटुक भैरव के मंदिर में टॉफी-बिस्किट चढ़ाया जाता है

यूपी के वाराणसी में कमचा इलाके में बटुक भैरव का मंदिर है। इस मंदिर में बाबा को टॉफी, बिस्कुट, चॉकलेट और लॉलीपॉप चढ़ाया जाता है। कई भक्त इन वस्तुओं को माला की जगह बाबा के द्वार पर लाते हैं और प्रसाद के रूप में चढ़ाते हैं। प्रसाद के इस रूप को मंदिर की ओर से भक्तों में बांटा भी जाता है। बटुक भैरव बाल अवतार में हैं इसलिए उन्हें ये चीजें चढ़ाई जाती हैं।

काली माता को चौमीन का भोग लगाया जाता है

कोलकाता के टेंगरा में एक चीनी काली माता का मंदिर है। यहां देवी को चाइनीज नूडल्स, सूप और चावल चढ़ाए जाते हैं। इस मंदिर में दर्शन के लिए दूर-दूर से श्रद्धालु आते हैं और यही चीजें उन्हें प्रसाद के रूप में बांटी जाती हैं।

Post a Comment

From around the web