फेसबुक को बचाने के लिए स्टीव जॉब्स के कहने पर इस भारतीय मंदिर में दौड़े चले आये थे जकरबर्ग

 
फेसबुक को बचाने के लिए स्टीव जॉब्स के कहने पर इस भारतीय मंदिर में दौड़े चले आये थे जकरबर्ग

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। फेसबुक की सफलता की कहानी हर कोई जानता है। जब यह शुरू हुआ था तब यह क्या था और अब यह क्या है इस सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म को किसी परिचय की आवश्यकता नहीं है। लेकिन एक इंटरव्यू के दौरान मार्क जुकरबर्ग ने कहा कि भारत के एक मंदिर में दर्शन करने के बाद उनकी किस्मत पूरी तरह से बदल गई और फेसबुक धीरे-धीरे नए रिकॉर्ड बनाने लगा। आइए आपको बताते हैं उस मंदिर और मार्क जुकरबर्ग की यहां की यात्रा की कहानी -

स्टीव जॉब्स ने मार्क जुकरबर्ग को भारत में कैंची धाम घूमने की सलाह दी थी

जब फेसबुक शुरू में संघर्ष कर रहा था, तो स्टीव जॉब्स ने फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग को कुछ समय के लिए भारत आने के लिए कहा और मार्क ने उनके अनुरोध पर ऐसा किया। उन्होंने पहली बार 2015 में भारत के प्रधान मंत्री के साथ इस कहानी को साझा किया था। उन्होंने कहा कि फेसबुक के साथ शुरुआती दिनों में उन्हें काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा था और यहां तक ​​कि कंपनी को बेचने पर भी विचार कर रहे थे। इसी बीच जुकरबर्ग कुछ सलाह के लिए जॉब्स के पास गए, ऐसे में जॉब्स ने उन्हें भारत के किसी मंदिर में जाने की सलाह दी।

फेसबुक को बचाने के लिए स्टीव जॉब्स के कहने पर इस भारतीय मंदिर में दौड़े चले आये थे जकरबर्ग

मार्क ने यहां बिताया समय -

"उन्होंने मुझसे कहा कि आपको भारत में एक बार इस मंदिर के दर्शन करने चाहिए। उनकी सलाह पर, मैंने भी यहाँ आने का फैसला किया, जहाँ वे पहले गए थे। फिर मैं यहाँ आया और लगभग एक महीने के लिए भारत का दौरा किया। मैंने यहाँ के लोगों से बातचीत की। हो गया। देश, यहां सब कुछ अनुभव करने का मौका मिला। उत्तराखंड के नैनीताल के पास कैंची में नीम करोली साधु के आश्रम में अच्छा समय बीता।

निब करोरी बाबा ने बदल दी मार्क की जिंदगी

फेसबुक को बचाने के लिए स्टीव जॉब्स के कहने पर इस भारतीय मंदिर में दौड़े चले आये थे जकरबर्ग

निब करोरी बाबा उर्फ ​​निब करोली बाबा का आश्रम आज भी कई हाई-प्रोफाइल अमरीकियों को अपनी ओर आकर्षित करता है। ऊंचे देवदार के जंगलों से घिरा यह आश्रम बेहद खूबसूरत दिखता है, हॉलीवुड एक्ट्रेस जूलिया रॉबर्ट्स, आध्यात्मिक गुरु रामदास, स्टीव जॉब्स को भी यहां देखा गया है।

कैंची धाम कैसे पहुंचे

अल्मोड़ा से टैक्सी या बस द्वारा नैनीताल आसानी से पहुँचा जा सकता है। यह जगह अल्मोड़ा रोड पर नैनीताल से 17 किमी दूर स्थित है। निकटतम रेलवे स्टेशन काठगोदाम है जो यहाँ से 37 किमी दूर है। और निकटतम हवाई अड्डा पंतनगर हवाई अड्डा है जो यहाँ से 71 किमी दूर है।

Post a Comment

From around the web