अगर आप भी चाहते हैं शोर-गुल से दूर घूमने और रिलैक्स होना, तो करें भारत के इन गांवों की सैर

 
मावलिनोंग, मेघालय

ट्रेवल न्यूज डेस्क।। हमारे देश भारत में कई ऐसी जगहें है जो यहां आने वाले पर्यटकों के मन में शांती व आंनद का एहसास करवाती हैं। इनके साथ ही यहां ऐसी भी जगहें भी हैं जहां जाकर आपको अलग ही शांति और सुकून का एहसास होगा और ये खूबसूरती में भी किसी मायने में कम नहीं है। तो आज हम आपको भारत के कुछ ऐसे ही गांवों के बारे में बताएंगे जहां जाना बहुत ही यादगार अनुभव रहेगा।

कलाप, उत्तराखंड

देवदार के घने जंगलों के बीच स्थित है यह छोटा सा गांव। उत्तराखंड में बसे इस गांव के बारे में कम ही लोग जानते हैं इसलिए यहां बाकी जगहों की तरह सैलानियों की भीड़ नहीं रहती। गांव तक ट्रैकिंग करके पहुंचा जा सकता है। जो वाकई बहुत ही शानदार अनुभव होता है क्योंकि रास्ते में कई सारे खूबसूरत नजारों का दीदार करने का मौका मिलता है।

मावलिनोंग, मेघालय
पनामिक हॉट स्प्रिंग, लेह

इस गांव तक खारडुंगला ला पास से लेकर पहुंचा जा सकता है। इस खूबसूरत और अनोखे गांव के बाद सियाचीन का ग्लेशियर आता है। लेह से 150 कि.मी. दूर पनामिक गाँव है। जो अपने गर्म पानी के सोते की वजह से दुनियाभर में मशहूर है। बर्फीले पहाड़ों के बीच गर्म पानी का सोता, वाकई आश्चर्यचकित करने वाला है। 

मावलिनोंग, मेघालय

शिलॉंग से 90 किमी. दूर स्थित मावलिनोंग गांव कुछ ऐसा है कि मेघालय आकर अगर आपने ये नहीं देखा तो आपका सफर अधूरा है। मेघालय के इस गांव को भारत के सबसे साफ-सुथरे गांव का दर्जा प्राप्त है। सफाई के अलावा यहां की हरियाली और खूबसूरती भी देखते ही बनती है।  इसके अलावा गांव में जीवित पेड़ों से बने पुल को देखना भी किसी आश्चर्य से कम नहीं। अलग ही शांति और सुकून बसा हुआ है यहां।

मावलिनोंग, मेघालय

पूवर, केरल

त्रिवेंद्रम के दक्षिणी छोर पर बसा इस गांव आकर आप अलग ही अनुभव अपने साथ ले जाएंगे। छुट्टी एंजॉय करने के लिए यहां खूबसूरत तटों की कोई कमी नहीं। केरल की खूबसूरती से भारत में रहने वाले अच्छे-भले वाकिफ होंगे लेकिन अगर कुछ अलग नजारे का आनंद लेना चाहते हैं यहां आकर तो रूख करें पूवर गांव की ओर। 

Post a Comment

From around the web